National

#LokSabhaSpeaker ओम बिरला के सुझाव पर संसद की कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने को सांसद  तैयार 

NewDelhi : सांसदों ने संसद की कैंटीन में खाद्य वस्तुओं पर मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने का सर्वानुमति से निर्णय किया है.   सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. सूत्रों के अनुसार यह निर्णय लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के सुझाव के बाद लिया गया. जान लें कि संसद की कैंटीन में सांसदों को मिलने सस्ते भोजन का मसला अक्सर खबरों में बना रहता है.  लोग सवाल उठाते रहे हैं कि सांसदों को खाने पर इतनी सब्सिडी क्यों दी जा रही है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें :  #Kolkata :  राज्यपाल धनखड़ विधानसभा पहुंचे, गेट बंद था, दूसरे गेट से गये, कहा, उनका अपमान किया जाता है

  संसद भवन में खाने का बिल सालाना 17 करोड़ रुपये  

जानकारी के अनुसार संसद भवन में खाने का बिल सालाना 17 करोड़ रुपये आता है. अब सब्सिडी हटाये जाने के बाद कैंटीन में खाने के दाम लागत के हिसाब से तय होंगे. पिछली लोकसभा में कैंटीन के खाने के दाम बढ़ा कर सब्सिडी का बिल कम किया गया था.

बता दें संसद में एक कैंटीन मीडिया के लिए तो एक सिर्फ सांसदों के लिए आरक्षित है. एक आंकड़े के अनुसार  जब संसद चल रही होती है तो यहां खाने वालों में 9 फीसदी तादाद सांसदों की होती है और तीन फ़ीसदी पत्रकारों की. संसद के भीतर कैटरिंग का जिम्मा रेलवे संभालती है.

Samford

डोसा मात्र 12 रुपए में मिलता है

कैंटीन की रेट लिस्ट के  अनुसार  चिकन करी 50 रुपए, वेज थाली 35 रुपए में परोसी जाती है.  थ्री कोर्स लंच की कीमत 106 रुपए निर्धारित है.  संसद में प्लेन डोसा मात्र 12 रुपए में मिलता है.  एक आरटीआई के जवाब में 2017-18 में यह रेट लिस्ट सामने आयी थी.

इसे भी पढ़ें : #AyodhyaVerdict से पाकिस्तान के साथ महागठबंधन भी नाखुश : योगी आदित्यनाथ

 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: