Skip to content Skip to navigation

खरकई नदी पर पुल बनाने में व्यर्थ फूंक दी 5.60 करोड़ रुपये- 11

News Wing
Ranchi, 12 August: खरकई नदी पर पुल बनाने के नाम पर सरकार ने बेवजह 5.60 करोड़ रुपये फूंक दिया. आज तक यह पुल अधूरा है. केंद्रीय जल आयोग ने निर्माण स्थल का जायजा लेने के बाद जून 2014 में कहा था कि बैराज के प्रवाह से पुल की नींव पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, लेकिन आयोग की बातों को नजरअंदाज कर पुल का निर्माण जारी रखा गया और वही हुआ जिसकी आशंका जतायी गयी थी. गौरतलब है कि गांजिया में खरकई नदी पर बैराज का निर्माण स्वर्णरेखा बहुद्देशीय परियोजना के के तहत 1982 में प्रस्तावित किया गया था. बैराज की एक विन्यास योजना का केंद्रीय जल एवं विद्युत अनुसंधान स्टेशन ने 1983 में सुझाव दिया था. फिर भी इस उच्चस्तरीय पुल के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन को तैयार करते समय इन मुद्दों को न तो परामर्शी द्वारा अभिलेखित किया गया और न ही पुल कार्य की स्वीकृति प्रदान करने से पहले विभाग द्वारा सत्यापित किया गया. परिणाम यह हुआ कि त्रुटिपूर्ण तैयारी और अनुमोदन होने के कारण पुल को अधूरा छोड़ना पड़ा और पुल निर्माण पर किया गया 5.60 करोड़ का व्यय निर्थक हो गया. सीएजी ने 2015-16 के वार्षिक प्रतिवेदन में इसका खुलासा किया है.

Top Story
Share
loading...