Skip to content Skip to navigation

"खुले में शौच से संबंधित फिल्मों का समय बिल्कुल सही"

News Wing
New Delhi, 11 August: फिल्मकार राकेश ओम प्रकाश मेहरा के अनुसार चाहे अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म ट्वायलेट एक "प्रेम कथा" हो या उनके निर्देशन में बनी फिल्म "मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर", खुले में शौच बंद करने से संबंधित इन फिल्मों का समय बिल्कुल सही है. उन्होंने कहा कि देश को मंदिर और मस्जिद से ज्यादा शौचालय बनाने की जरूरत है.

जहां शुक्रवार को रिलीज हुई फिल्म "ट्वायलेट एक प्रेम कथा" मनोरंजक तरीके से शौचालय बनाने की जरूरत पर प्रकाश डालते हुए स्वच्छ भारत के संदेश का प्रसार कर रही है, वहीं "मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर" की कहानी झुग्गी में रहने वाले एक लड़के के बारे में है, जो अपनी मां के लिए शौचालय बनवाना चाहता है. उन्होंने कहा कि वे किसी की भावना को आहत नहीं करना चाहते. लोग मंदिर मस्जिद जाते हैं शांति के लिए लेकिन अब समय आ गया है कि इन सब चीजों से हट कर लोगों की असल जरूरतों पर ध्यान दिया जाय.

यूनीसेफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार देश में 56.4 करोड़ लोग अब भी खुले में शौच करते हैं. भारत के ग्रामीण इलाकों में लगभग 65 प्रतिशत लोगों की पहुंच शौचालय तक नहीं है.

Share
loading...