Skip to content Skip to navigation

कश्मीर में हालात शीघ्र नियंत्रण में होंगे : सेना प्रमुख

हैदराबाद: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को भरोसा जताया कि जम्मू एवं कश्मीर की स्थिति शीघ्र नियंत्रित हो जाएगी। उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है। रावत ने कहा कि केवल दक्षिणी कश्मीर के कुछ हिस्सों में ही स्थिति तनावपूर्ण है, लेकिन उन्हें पूरा भरोसा है कि इसे शीघ्र नियंत्रित कर लिया जाएगा।

उन्होंने कहा, "सुरक्षा बल और सभी एजेंसियां स्थिति को नियंत्रित करने की दिशा में शानदार काम कर रही हैं। दक्षिण कश्मीर के कुछ हिस्सों में स्थिति तनावपूर्ण है। स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए जरूरी कार्रवाई की जा रही है। मुझे नहीं लगता कि फिक्र की कोई बात है।"

सेना प्रमुख हैदराबाद के दुंडीगल में संयुक्त स्नातक परेड का निरीक्षण करने के बाद संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

रावत ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर के लोगों को कुछ भ्रांतियां हैं और उनके बीच कुछ गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं, जिसके कारण समस्या पैदा हो रही है। संभवत: इसी वजह से कुछ युवा हथियार उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मुझे पूरा भरोसा है कि वे जल्द ही समझ जाएंगे कि वे जो कर रहे हैं, वह उनके अपने राज्य और लोगों के लिए सही नहीं है। सशस्त्र बल और सुरक्षा बल घाटी में केवल शांति और स्थिरता चाहते हैं।"

उन्होंने कहा, "मुझे पूरा भरोसा है कि कुछ युवा, जिनके हाथों में कम्प्यूटर होने चाहिए और जिन्हें आईआईटी और आईआईएम संस्थानों में प्रवेश के लिए परीक्षाओं की तैयारी करनी चाहिए, वे जल्द ही सही राह पर आ जाएंगे। वे खुद ही समझ जाएंगे कि वह सही राह पर नहीं हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि स्थिति नियंत्रित हो जाएगी।"

जनरल रावत ने दावा किया कि सेना का मानवाधिकार रिकॉर्ड बेहद बढ़िया है। उन्होंने कहा कि सशस्त्र बल नियमों का कड़ाई से पालन करते हैं और उस हालात को भी संभालने में प्रशिक्षित हैं, जिसमें महिलाएं व बच्चे शामिल रहते हैं।

उन्होंने कहा, "प्रदर्शन के दौरान जब भी वह महिलाओं तथा बच्चों को आगे देखते हैं, वे उससे उसी हिसाब से निपटते हैं। कड़े उपायों का कभी सहारा नहीं लिया जाता। हम सेना हैं और मानवाधिकार में पक्का यकीन करते हैं।"

यह पूछे जाने पर कि हिंसा से निपटने के लिए सेना मानव ढाल का इस्तेमाल कर रही है? जनरल ने कहा कि उन्हें इस तरह की परिस्थितियों से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया गया है।

जब उनसे पूछा गया कि क्या वे मानव ढाल के इस्तेमाल को मानक संचाल प्रक्रिया (एसओपी) का हिस्सा बनाएंगे? सेना प्रमुख ने कहा, "नहीं, ऐसा नहीं है। यह परिस्थितयों पर निर्भर करता है। हमारा प्रयास रहता है कि मानवाधिकारों का उल्लंघन न हो।"

पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम उल्लंघन पर रावत ने कहा कि वे इसे एक उद्देश्य की पूर्ति के लिए करते हैं, लेकिन सेना इसका मुकाबला कर रही है और जवाब दे रही है।

Top Story

मुंबई: मैक्सिम पत्रिका द्वारा किए गए सर्वेक्षण में दीपिका पादुकोण मैक्सिम हॉट 100 में पहले पायदान...

New Delhi: While many wait for the monsoon season to arrive, mucky roads and gloomy weather have...

अनीस बज्मी की मुबारकन अपनी रिलीज के करीब पहुंच रही हैं, और उत्साह को मंथन करने के लिए मुबारकन का...

डर्बी (इंग्लैंड): क्या आप जानते हैं कि महिलाओं के विश्व कप टूर्नामेंट का आयोजन पुरुषों के विश्व क...

loading...

Comment Box