Skip to content Skip to navigation

मुख्य सचिव, विकास आयुक्त और उद्योग सचिव ने शिलान्यास कार्यक्रम में उद्योगपतियों का किया स्वागत

रांची: मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि 19 कंपनियों की 21 उत्पादन इकाइयों का आज शिलान्यास हो रहा है। 3 इकाइयों का उद्घाटन हो रहा है, यह स्पष्ट संदेश है कि झारखंड बदल गया है और नये झारखंड का निर्माण हो रहा है। मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि जून या जुलाई के प्रथम सप्ताह में आप सब अन्य उद्योग की स्थापना के गवाह होंगे।
श्रीमती वर्मा ने कहा कि उद्योगपतियों नेझारखण्ड पर विश्वास किया, मैं आपको आश्वासन देना चाहती हूं कि आपके विश्वास पर झारखण्ड खरा उतरेगा। आपकी सफलता में हम अपनी सफलता देखेंगे निवेश का एक नियम है कि उसको तीन गुना अर्थव्यवस्था को लाभ होता है। प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार श्रृजित होते हैं।
समग्र विकास का मापदंड, समग्र विकास का निर्धारण औद्योगिक विकास का एक महत्वपूर्ण बिंदु होता है | हमारा राज्य संभावनाओं से भरा हुआ राज्य है | खनिज, प्राकृतिक संपदा, शिक्षण संस्थान और सबसे बड़ी बात मानव संसाधन, हमारे यहां सब उपलब्ध है | ये संभावनाएं हैं, जो निवेश के कारक हैं, जो औद्योगिक विकास के कारक हैं, उन संभावनाओं को, उन कारकों को धरातल पर उतारने के लिए परिणामदायक कार्य किए जा रहे हैं | सरकार के द्वारा नीतियां बनाई गई, इज ऑफ डूइंग बिजनेस में लंबी छलांग राज्य सरकार ने लगाया |
मुख्य सचिव ने कहा कि आज जिन कंपनियों के द्वारा निवेश के कार्य प्रारंभ किये जा रहे हैं, मैं पुनः उन सबको शुभकामना देना चाहती हूं और सबों को आस्वस्त करना चाहती हूं कि हम एक व्यवस्था के तहत आपके साथ खड़े हैं। आपने हम पर विश्वास किया, इसके लिए हम आभारी हैं और इसी प्रकार माननीय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में राज्य सरकार के द्वारा निवेश को, औद्योगिक विकास को तेजी देने के लिए, गति देने के लिए लगातार कार्य किये जा रहे हैं | भविष्य में भी हम ऐसी निरंतरता बनाए रखेंगे।
विकास आयुक्त श्री अमित खरे ने कहा कि आज सफल कार्यक्रम का आयोजन हुआ है। किसी भी बड़े काम के लिए जरुरी है कि पहला कदम सही हो। यहाँ जो निवेश हुआ है,उससे ज्यादा से ज्यादा रोजगार उपलब्ध होंगे | पूंजी निवेश में जिन्होंने योगदान दिया है, उनको विश्वास दिलाता हूँ कि हर योजना को धरातलपर उतारा जायेगा।
उद्योग सचिव श्री सुनील कुमार बर्णवाल ने कहा, मोमेंटम झारखण्ड की तैयारी पिछले एक साल से चल रही थी। राज्य की क्षमता को देश और विश्व स्तर पर स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है। वैश्विक निवेशक सम्मलेन में210 एम ओ यू हुए । निवेश को दो श्रेणी में बांटा गया है।पहला, जिसे जल्द धरातल पर उतरा जा सके और दूसरा जिसमें वक़्त लगे और बड़े उद्योग की स्थापना हो । राज्य सरकार ने कम पूंजी और रोजगार के अवसर ज्यादा पैदा करने वाले उद्योग को तरजीह दी । श्री वर्णवाल ने कहा किआज जिन परियोजनाओं का शिलान्यास हो रहा है,उससे रोजगार का श्रृजन होगा। राज्य सरकार लोगों को प्रत्यक्षऔर अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध करानेका प्रयास कर रही है।
श्री वर्णवाल ने कहा कि झारखण्ड केलोगों की सोच को बदलने का प्रयास किया जा रहा है। उद्योग स्थापना हेतु जमीन अधिग्रहण और नीतियों को मजबूत किया गया ताकि निवेशकों को उद्योग लगाने में मुश्किल न आये। दो साल में अलग अलग 18 नीतियों को लागू किया गया है,ताकि निवेशक आकर्षित हों। यहाँ सक्षम मानव संसाधन है जो उद्योग स्थापित करने में सहयोग प्रदान करेगा।
श्री वर्णवाल ने कहा किहम झारखण्ड को टेक्सटाइल और आई टी हब बनाने का प्रयास कर रहे हैं। 45 एकड़ जमीन में होटवार में टेक्सटाइल हब बना रहे हैं । इससे 24 महीने के अन्दर 15 हजार लोगों को रोजगार दिया जायेगा।

Share