Skip to content Skip to navigation

करोड़ों कमानेवाले क्रिकेट सितारा धोनी ने दागी श्रीनिवासन की मात्र 43 हजार की नौकरी क्यों स्वीकार की थी?

आईपीएल के जन्म दाता माने जाने वाले बीसीसीआई के पूर्व उपाध्यक्ष ललित मोदी पिछले कई वर्षों से ब्रिटेन में निर्वासित जीवन बिता रहे हैं। उनपर भारत में मनी लॉउन्डरिंग का आरोप हैं। मोदी अबतक घोटालों के विवादों में रहे हैं। वर्तमान भारतीय सत्तासीनों के साथ भी उनके नाम जुडे़ हैं। ललित मोदी की तरह ही बीसीसीआई के अध्यक्ष रहे एन श्रीनिवासन पर भी गंभीर आरोप लगते रहे थे। उन्हें भी बीसीसीआई की ओर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। ललित मोदी और श्रीनिवासन का पहले से ही छत्तीेस का आंकड़ा रहा है। उस घटनाक्रम के दौरान महेंद्र सिंह धोनी और श्रीनिवासन के याराना के चर्चे काफी रहे, हालांकि, धोनी उससे बच निकले। लेकिन अब, ललित मोदी ने भारतीय क्रिकेट सितारा और टीम इंडिया के पूर्व कप्तारन महेन्द्र सिंह धोनी के खिलाफ एक जबरदस्त पटाखा छोड़ा है। आठ मई 2017 को अपने ट्व्टिर और इंस्टाग्राम पर ललित मोदी ने धोनी के उस कांट्रैक्ट की जेरॉक्स कॉपी पोस्ट कर दी जो इंडिया सिमेन्ट्स द्वारा 2012 में जारी की गई थी। दरअसल, इंडिया सिमेन्ट्स श्रीनिवासन की कंपनी थी। महेंद्र सिंह धोनी को इसमें उपाध्यक्ष की नौकरी दी गई थी। और, इंडियन एयरलाइन्स की नौकरी छोड़ धोनी ने महज 43,000 रूपए मूल वेतन वाली श्रीनिवासन की इस नौकरी को स्वीकार कर लिया था। हालांकि, इसके अलावा धोनी को डीए के रूप में 21,970 रूपए, विशेष वेतन के रूप में 20,000 रूपए, विशेष भत्ते के रूप में 60,000 रूपए और अखबार के लिए 175 मिल रहे थे। महेंद्र सिंह धोनी ने बाजाप्ता उस कांट्रैक्टक को स्वीकार करते हुए अपना हस्ताक्षर भी कर रखा है। बावजूद इसके ... क्रिकेट की दुनिया से 100 करोड़ रूपए हर साल कमानेवाले धोनी ने आखिर श्रीनिवासन की कंपनी में महज 43 हजार रूपए मूल वेतन वाली यह नौकरी क्यों स्वीकार की होगी? इस का विश्लेषण अभी ललित मोदी की ओर से नहीं आया है। जाहिर है, मामला संदेहों से घिरे ‘गंभीर’ रिश्तों वाला लगता है। इस घटना पर महेंद्र सिहं धोनी को अपना पक्ष रखना चाहिए!

Top Story
Share

आध्यात्म

News Wing

Ranchi, 25 September: रांची के हरिमति मंदिर में साल 1935 से ही पारंपरिक तर...

Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us