Skip to content Skip to navigation

बुधवार 10 मई 2017

विक्रम सँवत्- 2074,शक् सँवत - 1939, / वर्ष हिजरी - 1437, - सावान , हिजरी तारीख- 13 , -बँगाब्द- 1424 ,बगँला / सँक्राति-मास - मेष / वैशाख - 27 - , दिन - बुधवार , मास- बैशाख ,-पक्ष- शुक्ल, तिथि
पूर्णिमा - रात -1 : 55 ,तक,
****************************
सूर्योदय कालीन नक्षत्रादि
नक्षत्र - स्वाती - दिन - 1 :43 तक

योग - व्यतिपात
----------------------------------------
राहुकाल - दोपहर 12 :00 से 13 :21 तक ,
.----------------------------------------
दिशाशूल -
उतर पश्चिम ईशान की तरफ यात्रा करना हो तो धनिया / तिल की वस्तु खाकर जाऐँ ,
--------------------
पर्व त्योहार - बुद्धपूर्णिमा

मेष -

फायदे की गुँजाइस है शत्रु हावी होगे , अपनो से भी परेशान हो सकते है ,

वृष -
फिजूलखची मे न पडिए,वाद विवाद बढ सकती है. अपनो से दुरियाँ वढेगी ,
मिथुन --
उन्नति के अवसर मिलेगे अनुकूल समय का लाभ मिलेगा , यश पद मिलने वाली है ,
कर्क---
परिजनो को मदद करेगे , भाग दोड बढेगी , शरीर पीडा की गुँजाइस है , बडी खरीदारी होगी ,
सिह ----
काम मे उन्नति , रोजगार के अवसर मिलेगा , मन मे उत्साह और उँमग बना रहेगा ,
कन्या - -
नया कामो की प्रगति , शुभ सूचनाए मिलेगी ,अदद लाभ के सँयोग है ,
तुला -
परिजनो की चिन्ता , अपनो के प्रति खर्च वढेगा , कोई आने वाला है

वृश्चिक-
सफलता मिलनेवाली है, घर मे खूशहाली का माहोल , मनोकामना की पूर्ति होगी ,
धनु-
सहानुभूति मिलेगा,दुर की यात्रा होगी, व्यपारिक उलझने सुलझेगी,लाभ के अवसर मिलेगेँ,
मकर-
विष एसीडीटी की सँम्भावना ,पुरानी वस्तु के प्रति लगाव बढेगा , यात्रा होगी
कुम्भ-
सुख सूविधा की वृद्धि राजनीतिक सफलता , शरीर पीडा हो सकती है,
मीन-

व्यक्तिगत समस्याओ का समाधान होगा,भविष्य की योजना सफल होगी, लू बुखार से बचे ,**

Role: author
पंडित रामदेव जी का परिचय: वर्तमान में रांची में निवास कर रहे पंडित रामदेव एक जाने माने ज्‍योतिषविद् हैं। सनातन संस्कृति के कर्णधार ,वैदिक और अध्यात्मिक व्यास परम्परा के प्राणधार,हमरी वैदिक चेतना के प्रहरी प्रतीक युवा सँत ,ज्योतिष,तंत्र , अध्यात्म के विद्यार्थी पँड़ित रामदेव पाण्डेय जी को पैतृक परम्परा से दादा पँ मुनीश्वर पाण्डेय जी के द्वारा ज्योतिष और कर्मकांड की शिक्षा मिली वही विद्या अध्यन के क्रम मे ही सोलहवे साल मे बाबा विश्वनाथ की कृपा से कचोडी गली वाराणसी मे रामायण पर प्रवचन कहने का सौभाग्य मिला , स्वँय विज्ञान के विद्यार्थी रहते हुऐ भी गृहस्थ अवधुत भैरवानन्द कापालिक चक्र तीर्थ उज्जैन ,बंगाल के तारासाधक आचार्य कल्याणी प्र चट्टोराज से तंत्र दीक्षा, श्री नारायण दत्त श्रीमाली जी जोधपुर , पँ शारदा प्र द्विवेदी मानस मर्मज्ञ (काशी -मिर्जापुर ) का साहचर्य बाल्यकाल से ही मिला , तो ज्योतिष-राशिफल, व्रत- त्योहार आदि से सम्बंधित हजारो लेख राष्ट्रीय अखबार एवँ मिडिया चैनल मे 2000 ई से प्रकाशित और प्रसारित हो रहा है ,पण्डित जी के द्वारा झारखंड, बिहार ,उत्तरप्रदेश, छतीसगढ,मे सँगीत मय श्री मद्द देवीभागवत ,भागवत, देव मन्दिर प्रतिष्ठा के कार्यक्रम हो रहे है ,माँ कामाख्या मन्दिर गोहाटी ,विन्ध्याचल, रज्जरपा छिन्नमस्ता मन्दिर मे कई तंत्र अनुष्ठान सम्पन्न हो चुके है ,कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंच को सम्बोधित कर चुके है।

लॉस एंजेलिस: पॉप गायिका ब्रिटनी स्पीयर्स के उस वक्त होश उड़ गए, जब वह रसोई में खड़ी थी और किसी ने...

वेनिस का कार्निवाल पूरी दुनिया में अपने रंगबिरंगे कॉस्ट्यूम्स और मुखौटों से सजे लोगों की परेड के...

मुंबई: अभिनेत्री तापसी पन्नू ने 'जुड़वां' फिल्म के सीक्वल की लंदन चल रही शूटिंग पूरी कर ली है। वह...

नई दिल्ली: प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आगामी पांचवें संस्करण के लिए हो रही खिलाड़ियों की नीलामी म...

loading...

Comment Box