Skip to content Skip to navigation

पाकिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ताओं से जाधव को बचाने की अपील

मुंबई: एक अग्रणी स्वयंसेवी संगठन हारमोनी फाउंडेशन ने शनिवार को पाकिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ताओं से भारत के पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को बचाने के लिए अभियान छेड़ने की अपील की। जाधव को पाकिस्तान में विध्वसंकारी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाकर मौत की सजा सुनाई गई है।

मुंबई स्थित हारमोनी फाउंडेशन के अध्यक्ष अब्राहम मथाई ने पाकिस्तान के लाहौर की मानवाधिकार कार्यकर्ता सईदा दीप को जाधव के मामले में मदद करने के लिए पत्र लिखा है। हारमोनी फाउंडेशन चुनिंदा प्रमुख हस्तियों को हर साल सेंट मदर टेरेसा अवार्ड से सम्मानित करता है।

मथाई ने बताया कि उनकी अपील पर सईदा ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। लाहौर स्थित सेंटर फार पीस एंड सेकुलर स्टडीज की कार्यकारी निदेशक सईदा ने कहा है कि वह जाधव का मुकदमा सही तरीके से चलाने के लिए अभियान शुरू करेंगी।

मथाई ने कहा कि जाधव को पाकिस्तान में नहीं पकड़ा गया था। उन्हें मौजूदा (पाकिस्तानी) शासकों के साथ मिलकर काम कर रहे कुछ आतंकी संगठनों ने अगवा किया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में सभी सैन्य अदालतें एक ढोंग हैं जो प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों का पालन नहीं करतीं।

उन्होंने कहा, "जाधव को भारतीय राजनयिक से नहीं मिलने दिया गया। यह जिनेवा समझौते का उल्लंघन है। उन्हें कोई आरोपपत्र नहीं दिया गया जो कि किसी भी अभियुक्त का अधिकार है।"

उन्होंने कहा कि दुनिया भर में बुरे से बुरे आतंकी को पकड़े जाने पर भी मानवाधिकारों की रक्षा के तहत उसे निष्पक्ष मुकदमे का मौका दिया जाता है, जैसा कि भारत में अजमल कसाब को दिया गया था।

उन्होंने कहा कि जाधव के मामले में सभी परिस्थितिजन्य साक्ष्य यही इशारा कर रहे हैं कि उन्हें फंसाया गया है। यह जरूरी है कि उन्हें निष्पक्ष सुनवाई का मौका दिया जाए।

Top Story
Share
loading...