Skip to content Skip to navigation

होली पर बालों का रखें कुछ यूं ख्याल

नई दिल्ली: होली का त्योहार बिल्कुल करीब है। इस बसंती त्योहार में लोग अपने कपड़ों, बालों, त्वचा तथा रंगरूप की परवाह किए बिना रंगों से सराबोर रहना पसंद करते हैं। लेकिन इन सबसे बालों को नुकसान हो सकता है, जिससे सावधान रहने की जरूरत है। प्रसिद्ध हेयर स्टाइलिस्ट जावेद हबीब ने इसके लिए कुछ सुझाव दिए हैं। उनका कहना है कि होली खेलने से 15 मिनट पहले आप अपने बालों पर पर्याप्त तेल से मालिश कर लें।

इसके लिए नारियल, जैतून, सरसों या किसी भी अन्य तेल का चयन कर सकते हैं। यह ध्यान रखें कि तेल गर्म न हो। इससे बालों को नुकसान हो सकता है।

उन्होंने कहा कि होली खेलने के दौरान बालों को खुला नहीं छोड़ना चाहिए। खुले बाल ज्यादा रंग सोखते हैं, जिससे खोपड़ी पर रंगों का ज्यादा जमाव होता है। होली खेलने के दौरान बालों को टोपी या स्कार्फ से पूरी तरह ढक लेना चाहिए।

जावेद हबीब का सुझाव है कि होली खेलते समय टोपी के नीचे प्लास्टिक शॉवर कैप पहनने से बालों की सुरक्षा दोगुनी हो जाती है। सूखे रंगों से होली खेलने के बाद बालों को अच्छी तरह ब्रश कर लें। ब्रश करने मात्र से ही सिर पर जमे रंगों को हटाने में काफी मदद मिलती है। लेकिन अगर आपने गीले रंगों का प्रयोग किया है तो पहले सादे पानी से बालों को अच्छी तरह धो डालिए तथा उसके बाद शैम्पू लगाने के बाद फिर बालों को पर्याप्त मात्रा में साफ पानी से धोएं।

बालों पर जमे रंगों को जल्दी निकालने की चाहत में शैम्पू को बालों पर बार-बार मत रगड़िए, क्योंकि बालों पर जमा रंग साफ होने में कुछ समय लग सकता है। होली के रंगों को बालों से हटाने के लिए बेबी शैम्पू या प्राकृतिक शैम्पू का इस्तेमाल कर सकते हैं।

जावेद हबीब का सुझाव है कि होली के रंगों से सने बालों को गर्म पानी से नहीं धोना चाहिए, इससे बाल खराब हो सकते हैं। गर्म पानी बालों को शुष्क बना देता है। होली में बाल धोने के बाद उसे ब्लो-ड्राई न करें, बल्कि प्राकृतिक तरीके से सूखने दें। होली के बाद बालों को स्पा ट्रीटमेंट दे सकते हैं। होली के दो सप्ताह बाद तक बालों को कलर न करें।

लॉस एंजेलिस: पॉप गायिका ब्रिटनी स्पीयर्स के उस वक्त होश उड़ गए, जब वह रसोई में खड़ी थी और किसी ने...

नई दिल्ली: देश के खादी फैशन हाउस को मजबूती देने के लिए खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी), सूक्ष्म,...

नई दिल्ली: फिल्मकार एस.एस. राजामौली के दिमाग में साल 2012 में आए विचार ने भारतीय सिनेमा को एक अभू...

मुंबई: सचिन तेंदुलकर के जीवन पर बनीं फिल्म 'सचिन : अ बिलियन ड्रीम्स' देखकर लोग क्रिकेट के मास्टर...

loading...

Comment Box