कई घंटों तक बंद रहा रिम्‍स का इमरजेंसी, आधी रात तक जारी रहा अस्‍पताल छोड़ने का सिलसिला

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 04/14/2018 - 23:55

Ranchi : झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्‍पताल रिम्‍स में इमरजेंसी सेवा बंद हो जाने के बाद आधी रात तक अफरा तफरी मची रही. यहां के सभी डॉक्‍टर करीब सात घंटे काम छोड़कर छुट्टी पर चले गये. उसके बाद सैकड़ों मरीज रिम्‍स छोड़कर जाने लगे. अस्‍पताल छोड़ने का यह सिलसिला आधी रात तक जारी रहा. हिमोफिलीया सोसाइटी के सचिव संतोष जायसवाल ने बताया कि रिम्‍स में हड़ताल हो गई है, जिसके कारण मरीज छोड़कर जा रहे हैं. उन्‍होंने सरकार से संज्ञान में लेने की अपील की. उन्‍होंने कहा कि सुरक्षा में लगे लोगों को तत्‍काल रिम्‍स से हटाया जाय, क्‍योकि सुरक्षा गार्ड और एजेंसी सेवा देने की स्थिति में नहीं है. इस पूरे मामले में उन्‍होंने त्‍वरित एक्‍शन लेने की मांग की.

rims

जानकारी के अनुसार इधर करीब रात के साढ़े 11 बजे रिम्‍स में पुलिस बल और सुरक्षा जवानों को तैनात किया गया है. उसके बाद कुछ जुनियर डॉक्‍टर काम पर लौट गये हैं. इमरजेंसी फिर से शुरू हो गई, लेकिन मरीजों का अस्‍पताल छोड़कर जाना नहीं रूका है. इस पुरे वाकये के दौरान 7 घंटे के बीच कोई भी सरकारी उच्‍च अधिकारी या नेता रिम्‍स डैमेज कंट्रोल के लिए नहीं पहुंचा.

rims

क्‍यों हड़ताल पर चले गये जूनियर डॉक्‍टर और बंद पड़ गया इमरजेंसी

मरीजों के परिजनों और जूनियर डॉक्टरों के बीच मारपीट का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि. लालपुर थाना क्षेत्र की रहने वाली 17 वर्षीय आंचल मिश्रा ने जहर खा लिया था. जिसके इलाज के लिए रिम्स के इमरजेंसी विभाग में लाया गया. इलाज के दौरान मरीज के परिजनों और जूनियर डॉक्टरों के बीच मारपीट हो गई. जिसमें डॉ गजेंद्र पंडित का हाथ टूट गया.

घटना के बाद खाली हुआ इमरजेंसी विभाग

इस घटना के बाद सभी डॉक्टरों ने काम करने से इंकार कर दिया. सभी डॉक्टर एकजुटता के साथ रिम्स चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय के समक्ष जमा हो गए. डॉक्टरों ने आरोप लगाया कि मरीज के साथ कई परिजन पहुंचे और ड्यूटी में तैनात डॉक्टरों से बदतमीजी और मारपीट की. इस घटना में महिला डॉक्टरों के साथ भी बदसलूकी की गई.

rims

इलाज कर रहे थे लेकिन परिजनों ने की मारपीट

रिम्स पीजी सर्जरी विभाग के डॉक्टर गजेंद्र पंडित ने कहा कि हम सभी मरीज का इलाज कर रहे थे. लेकिन परिजनों के द्वारा इलाज में कोताही का आरोप लगाकर डॉक्टरों के साथ मारपीट की गई. इस घटना में मेरा दाहिना हाथ टूट गया है. उन्होंने कहा कि पिछली बार भी डॉक्टरों के साथ मारपीट की घटना घटी थी. जिसके बाद जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के बैनर तले डॉक्टरों ने हड़ताल कर दी थी.

सुरक्षा में कोताही का लगा रहे हैं आरोप

डॉक्टर रिम्स की सुरक्षा में कोताही का आरोप लगा रहे हैं. उनका कहना है कि आए दिन ऐसी स्थिति यहां देखने को मिलती है. रिम्स में तैनात गार्ड भी रिम्स की सुरक्षा व्यवस्था को सही ढंग से नही संभाल पाते है.

घटना के बाद कई मरीजों ने खाली किया अस्पताल

इस घटना के बाद रिम्स में इलाज करा रहे कई मरीजों ने अस्पताल खाली कर दिया. मरीजों के बीच अफरातफरी का माहौल था. घटना के बाद डॉक्टरों ने काम करने से इनकार दिया. जिससे मरीजों की मुसीबत बढ़ गई.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...