जिस अवैध नर्सिंग होम को बंद करने का मिला था फरमान, वहां डॉक्टर ने ले ली नवजात की जान

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 04/25/2018 - 14:47

"झारखंड में सैकड़ों अवैध नर्सिंग होम चल रहे हैं, उनपर नकेल कसने को लेकर स्वास्थ्य विभाग का कोई भी प्रयास असर नहीं दिखा रहा है, लिहाजा आए दिन दांव पर लग रही है मासूमों की जिंदगी. चतरा के एक नर्सिंग होम में जो मामला सामने आया उससे वाकिफ होने के बाद आपकी रुह कांप उठेगी. क्योंकि यहां भूलवश नवजात की मौत नहीं हुई, बल्कि जानबूझकर डॉक्टर ने ले ली मासूम की जान."

Chatra : चतरा के इटखोरी थाना क्षेत्र स्थित जय प्रकाश नगर में लिंग परीक्षण के बाद बच्चे का लिंग काटने का मामला सामने आया है. इससे बच्चे की मौत हो गई. पुलिस ने बुधवार को संबंधित नर्सिंग होम को सील कर दिया. जबकि आरोपी झोलाछाप डॉक्टर फरार है. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच में जुट गई है. बताते चलें कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा, इस नर्सिंग होम को बंद करने का आदेश काफी पहले दे दिया गया था. पर इसे अवैध ढ़ग से चलाया जा रहा था.

इसे भी पढ़ें- नाबालिग रेप मामले में आसाराम को उम्रकैद, शिल्पी और शरतचंद्र को 20-20 साल की सजा

क्या है मामला ?

मझधार ब्लॉक की रहने वाली गुड़िया देवी प्रसव पीड़ा की वजह से मंगलवार को जय प्रकाश नगर स्थित ओम क्लिनिक नामक एक नर्सिंग होम में भर्ती हुई. उसे 8 माह का गर्भ था. यहां झोलाछाप डॉक्टर अनुज कुमार ने उसकी जांच की और महिला के पति अनिल पंडा को कहा-17 हजार रुपए जमा करा दें. उन्होंने 10 हजार रुपए जमा करा दिया. अनिल पंडा ने बताया कि इसी बीच डॉ. अनुज ने उनकी पत्नी का अल्ट्रासाउंड किया और बताया कि उनके गर्भ में बच्ची पल रही है. कुछ देर बाद डॉक्टर उसे सिजेरियन के लिए ऑपरेशन थियेटर में ले गए. यहां गुड़िया देवी का ऑपरेशन किया और लड़का पैदा हुआ. वो अस्वस्थ था.

इसे भी पढ़ें- कंबल घोटाला : सबको थी खबर, पर “सबसे पहले” 19 मार्च को न्यूज विंग ने छापी खबर, अब दो अखबारों में लगी “सबसे पहले” क्रेडिट लेने की होड़

अपनी बात सही साबित करने के लिए कर दी हत्या

परिजनों के अनुसार, डॉक्टर ने अपनी बात सच साबित करने के लिए बच्चे का लिंग काट डाला और बताया कि विकलांग लड़की पैदा हुई, जिसकी मौत हो गई है. पर अनिल पंडा की मां कल्याणी देवी ने डॉक्टर की इस करतूत को देख लिया और हंगामा शुरू कर दिया. खुद को फंसता देख डॉक्टर ने पैसे के बल पर उनसे समझौता करने की कोशिश की पर परिजन नहीं माने और रात में पुलिस को इसकी सूचना दे दी. बुधवार को पुलिस नर्सिंग होम पहुंची तो डॉ. अनुज फरार हो चुका था. पुलिस ने फौरन नर्सिंग होम को सील कर दिया और बच्चे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया. पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी के लिए मशक्कत में जुट गई है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.