Crime NewsJharkhandKhas-KhabarRanchi

हजारीबाग: भाकपा माओवादी से ज्यादा उग्रवादी संगठन मचा रहे उत्पात, लेवी के लिए हत्या, आगजनी व फायरिंग की घटना को दे रहे अंजाम

Hazaribagh: जिले की पुलिस इन दिनों भाकपा माओवादी संगठन से ज्यादा उग्रवादी संगठनों से परेशान है. हजारीबाग में भाकपा माओवादी के अलावा कई उग्रवादी संगठन सक्रिय हैं. जो लेवी के नाम पर हत्या, वाहनों में आग लगाने के साथ ही गोलीबारी करके दहशत फैलाने का काम रहे हैं.

उग्रवादी संगठन में शामिल युवक अपने इलाके में लेवी के लिए दहशत फैलाने के उद्देश्य से छोटी-बड़ी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. उग्रवादी संगठन व्यवसायियों व ठेकेदारों से लेवी की अवैध वसूली का काम करता है.

दहशत फैलाने के उद्देश्य से आपराधिक गिरोह निर्माण कार्य में लगे वाहनों में आग लगा रहे हैं और विकास कार्य में लगे कर्मियों की हत्या भी कर हैं. ताकि इनके नाम का दहशत हो और ऐसे में इन्हें लेवी मिलती रहे.

इसे भी पढ़ें- #SaryuRoy ने कहा- BJP से मोहभंग, मुझे टिकट नहीं चाहिए, पार्टी जिसे देना चाहे दे दे

फिर से इस क्षेत्र में अपना प्रभाव बनाने में लगे उग्रवादी

राज्य सरकार की नजर में हजारीबाग जिला उग्रवाद प्रभावित एरिया नहीं माना जा रहा है. इसका फायदा अब उग्रवादी उठाने लगे हैं. एक बार फिर से उग्रवादी इस क्षेत्र में अपना प्रभाव बनाने लगे हैं. जिले के कई क्षेत्रों में उग्रवादियों की हलचल बढ़ रही है.

15 दिनों के अंदर जिले में दो घटनाओं को अंजाम देकर उग्रवादियों ने सभी को चौंका दिया है. उग्रवादियों की इस कार्रवाई से जिले के विकास कार्यों में लगी एजेंसियां भी दहशत में है, क्योंकि माओवादियों ने खुद को मजबूत करने के लिए लेवी मांगना शुरू कर दिया है. रेलवे साइडिंग के काम को बाधित करने के लिये साइट पर आगजनी करके करोड़ों का नुकसान पहुंचाया गया है.

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ CM रघुवर दास के खिलाफ लड़गें चुनाव

लेवी के लिए फूंक रहे हैं वाहन और मशीनें

आपराधिक गिरोह और उग्रवादी संगठनों के द्वारा ज्यादा लेवी वसूलने के लिए लगातार घटना को अंजाम दिया जा रहा है. अपराधिक संगठन सड़क निर्माण कार्य में लगी कंपनी, क्रशर संचालक, टावर लगानेवाली कंपनी सहित अन्य कारोबारियों से लेवी वसूली कर रहे हैं.

साथ ही लेवी नहीं देने पर वाहनों में आग लगाकर दहशत फैलाने की कोशिश भी कर रहे हैं. लेवी से वसूले गये रुपयों से खुद की संपत्ति बढ़ा रहे हैं. हाल के ही दिनों में हजारीबाग के कटकमसांडी थाना क्षेत्र में रेलवे कोल डंम के समीप टीपीसी के नक्सलियों ने छह वाहनों में आग लगा दिया.

इस घटना के 15 दिन बाद चरही थाना क्षेत्र में टीपीसी उग्रवादियों ने रेलवे साइडिंग पर फायरिंग की और काम बंद करवा दिया. इससे पहले भी लेवी के लिए हजारीबाग में उग्रवादियों और अपराधियों के द्वारा घटनाओं का अंजाम दिया गया है.

भाकपा माओवादी संगठन से ज्यादा उग्रवादी संगठन से पुलिस परेशान

हाल के दिनों में हजारीबाग में भाकपा माओवादी से ज्यादा दूसरे आपराधिक गिरोह और उग्रवादी संगठनों ने वाहनों में आगजनी और हत्या कि घटना का अंजाम दिया है.

उरीमारी में लेवी नहीं देने पर जेजेएमपी उग्रवादियों ने मजदूर नेता गहन टुडू की हत्या कर दी थी और उससे पहले लेवी के लिए अपराधियों ने हजारीबाग, बड़कागांव प्रखंड अंतर्गत उरीमारी रेलवे साइडिंग के पास काम करा रहे इंजीनियर को अपराधी ने गोली मार दी थी. इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने के पीछे की मुख्य वजह लेवी नहीं देना बताया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- पलामू प्रमंडल की नौ सीटों पर BJP के चार बागी मैदान में, कमल की राहों में बिछा सकते हैं कांटे

हाल के महीनों में हुई कुछ नक्सल घटनाएं

  • 15 नवंबर 2019: चरही थाना क्षेत्र रेलवे साइडिंग पर देर रात टीपीसी दस्ते के नकाबपोश उग्रवादियों ने जमकर उत्पात मचाया. साइडिंग में तैनात होमगार्ड के तीन जवानों की पिटाई कर दी और कोयला ढुलाई का कार्य बंद करा दिया.
  • 29 अक्टूबर 2019: हजारीबाग जिले के कटकमसांडी थाना क्षेत्र में रेलवे कोल डंम के समीप टीपीसी के नक्सलियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए 6 वाहनों में आग लगा दिया था.
  • 15 सितंबर 2019: झामुमो के केंद्रीय सदस्य सह विस्थापित नेता गहन टुडू की उरीमारी में हत्या लेवी को लेकर हुई थी. झारखंड जनमुक्ति परिषद (जेजेएमपी) के हजारीबाग, रामगढ़ व चतरा के जोनल कमांडर के इशारे पर उग्रवादियों ने झामुमो नेता की गोली मारकर हत्या कर दी थी.
  • 26 जुलाई 2019: हजारीबाग के बड़कागांव प्रखंड अंतर्गत उरीमारी रेलवे साइडिंग के पास काम करा रहे इंजीनियर को लेवी के लिए अपराधी ने गोली मार दी थी.
  • 7 मार्च 2019: हजारीबाग जिले के केरेडारी थाना क्षेत्र स्थित बुंडू धुंधी गढ़ा में  चतरा जिला पुलिस और सीआरपीएफ 190 बटालियन के जवानों ने मुठभेड़ में उग्रवादी संगठन टीपीसी के तीन नक्सलियों को मार गिराया था.
  • 15 दिसंबर 2018: हजारीबाग-चतरा रोड में कटकमदाग के कुसुंभा में शाम उग्रवादियों ने 11 कोयला लदे हाइवा को फूंक दिया. सभी हाइवा बड़कागांव और मगध, आम्रपाली परियोजना से बानादाग रेलवे साइडिंग आ रहे थे.
  • नवंबर 2018: लातेहार के बालूमाथ और हजारीबाग के बड़काकाना इलाके में विकास कार्यों में लगे वाहनों को नक्सलियों ने जला दिया.
  • अक्तूबर 2018: हजारीबाग के चौपारण में जलाशय निर्माण में लगे संवेदक के कैंप पर नक्सलियों ने हमला किया. वाहन सहित अन्य सामग्री जला दिया. घटना के पीछे का कारण लेवी बताया जा रहा है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: