Skip to content Skip to navigation

विजय माल्या के खिलाफ धोखाधड़ी का बेहद मजबूत मामला, देना होगा बेईमानी मामले में जवाब : सरकारी सूत्र

NEWS WING

NEW DELHI, 07 DECEMBER : भारत से फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ प्रथम दृष्टया धोखाधड़ी का बेहद मजबूत मामला है. यह जानकारी एक वरिष्ठ सरकारी सूत्र ने दी है. इससे पहले खबरों में कहा जा रहा था कि माल्या के वकीलों ने ब्रिटेन की एक अदालत को बताया है कि भारत के पास उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं.

यह भी पढ़ें - मिड डे मील का 100 करोड़ ट्रांस्फर के मामले में सीबीआई ने दर्ज की प्राथमिकी, छापामारी

माल्या पर है करीब नौ हजार करोड़ धोखाधड़ी का मामला

लेकिन सरकार के ही एक सूत्र ने कहा है कि, तथ्य यह है कि ब्रिटेन के धोखाधड़ी अधिनियम 2006 के संदर्भ में माल्या के खिलाफ प्रथम दृष्टया एक बेहद मजबूत मामला है. उन्होंने कहा कि लंदन से आ रही खबरों के अनुसार, माल्या के वकीलों ने ब्रिटेन की एक अदालत को बताया है कि भारत के पास उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं. शराब कारोबारी 61 वर्षीय माल्या भारत में वांछित है और उस पर करीब नौ हजार करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी और धनशोधन के आरोप लगे हैं. वहीं माल्या के प्रत्यर्पण मामले में कल वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में सुनवाई हुई थी.

माल्या को अवमानना कार्रवाई में बेईमानी को लेकर जवाब देना होगा - सूत्र

वहीं सूत्र ने वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में हुई कार्रवाई का हवाला देते हुए कहा कि उच्चतम न्यायालय और अन्य अदालतों में माल्या के आचरण से साफ है कि, भारत के उच्चतम न्यायालय में माल्या को उसके खिलाफ चल रही अवमानना कार्रवाई में उसके बेईमानी भरे इरादों के बारे में जवाब देना होगा. माल्या को स्कॉटलैंडयार्ड ने प्रत्यर्पण वारंट पर इस साल अप्रैल में गिरफ्तार किया था. वह 650,000 पाउंड के मुचलके पर जमानत पर है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Top Story
Share

Add new comment

loading...