Skip to content Skip to navigation

शौहर ने दे दिया था तलाक, अब एक साल बाद न्याय की आस

News Wing

Kanpur, 25 August:  सुप्रीम कोर्ट द्वारा तीन तलाक को ‘असंवैधानिक’ घोषित कर दिये जाने के बाद तीन तलाक से पीडित महिलाएं अब खुल कर पूरे हक के साथ पुलिस के पास जा रही हैं. तीन तलाक से जुडे ऐसे अनेक मामले हैं, जिसमें महिलाएं खुद को बेबस और लाचार महसूस करती थीं लेकिन अब ऐसा बिल्कुल नहीं है. सुप्रीम कोर्ट के एक ऐतिहासिक फैसले से ऐसी कई महिलाएं चाहरदीवारी से निकल कर पुलिस के पास पहुंच रही हैं ताकि उन्हें न्यााय मिल सके. ऐसा ही एक मामला सामने आया है कानपुर में जहां महिला को एक साल बाद न्याय की आस है. तीन तलाक से पीड़ित एक महिला ने कानपुर जिले में अपने शौहर तथा ससुरालवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

मांग मानने से इनकार किया तो दे दिया था तलाक

मिली जानकारी के अनुसार सोफिया अहमद नामक महिला का निकाह 12 जून 2015 को शारिक अराफात से हुआ था. सोफिया ने आरोप लगाया है कि उसकी शादी के फौरन बाद से उसकी अपने पति तथा ससुराल के लोगों से दहेज को लेकर झगड़ा होने लगा था. इस दौरान उसे शारीरिक प्रताडना भी दी जाती थी. सोफिया ने जब उसने ससुराल के लोगों की मांग मानने से इनकार कर दिया तो उसके शौहर शारिक ने उसे 13 अगस्त 2016 को तलाक दे दिया था. तलाक दिये जाने के बाद वह पुलिस के पास गयी लेकिन उसकी बात नहीं सुनी गयी.

मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू

लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के द्वारा तीन तलाक को असंवैधानिक करार दे दिये जाने के बाद सोफिया ने अपने पति, ननद, उसके बेटे तथा सास और ससुर पर दहेज उत्पीड़न और घरेलू हिंसा का मुकदमा दर्ज कराया है. जिस पुलिस द्वारा एक साल पहले सोफिया का मुकदमा दर्ज नहीं किया गया था आज उसी पुलिस ने सोफिया की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है.

Top Story
Share

UTTAR PRADESH

News WingGajipur, 21 October : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोटरसाइकिल पर आए हमलावरों ने राष्ट्रीय स्...
News Wing Uttar Pradesh, 20 October: धनारी थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक इनामी बदमाश औ...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us