Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

spritual

spritual

भाई दूज 2017: जानिये... कब है शुभ मुहूर्त, कैसे करें पूजा

News Wing Ranchi, 20 October: भाई-बहन के स्नेह का पर्व भाई दूज शुक्रवार को विभिन्न समुदाय में अलग-अलग ढंग से मनाया जायेगा. मैथिल समुदाय में इसे ‘भर द्वितीया के रूप में मनाया जाता है, वहीं, बंग समुदाय में ‘भाई फोटा के नाम मनाते है.

Share

गोवर्धन पूजा: गाय उसी प्रकार पवित्र होती जैसे नदियों में गंगा

दीपावली की अगले दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. लोग इसे अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं. इस त्यौहार का भारतीय लोक जीवन में काफी महत्व है. इस पर्व में प्रकृति के साथ मानव का सीधा सम्बन्ध दिखाई देता है. इस पर्व की अपनी मान्यता और लोककथा है.

Share

Diwali 2017: जानिये इस दिवाली क्या करने से आपके घर आयेगी लक्ष्मी

News Wing Ranchi, 18 October: देशभर में दिवाली को लेकर उत्साह है. हर घर, हर मुहल्ला, हर गांव और शहर दीपों से रौशन है. बाजार दीवाली के पटाखों, मिठाईयों और गिफ्टों से सजे हैं. दिवाली मां लक्ष्मी के आगमन का त्योहार माना जाता है.

Share

धनतेरस 2017: जानिये कब है खरीदारी का शुभ मुहूर्त, क्या करने से घर आयेगी लक्ष्मी

News Wing Ranchi, 14 October: धनतेरस का त्योहार इस बार 17 अक्टूबर को मनाया जा रहा है. हिंदू कैलेंडर के मुताबिक धनतेरस कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन यानी दिवाली दो दिन पहले मनाया जाता है.

Share

19 नवंबर को बंद होंगे बद्रीनाथ के कपाट

NEWS WING:Uttarakhand, 30 September : बद्रीनाथ मंदिर के कपाट सर्दियों के लिए इस साल 19 नवंबर को बंद हो जाएंगे और इसके साथ ही वार्षिक चारधाम यात्रा पूरी हो जाएगी. 

Share

रांची के कई पंडालों में होती है पारंपरिक विधि से माता की पूजा

News Wing:Ranchi, 25 September: रांची के हरिमति मंदिर में साल 1935 से ही पारंपरिक तरीके से दुर्गा पूजा का आयोजन किया जाता रहा है. इस मंदिर में बांग्ला परंपरा के अनुसार पूजा की जाती है. यहां कलश स्थापना षष्ठी को की जाती है.

Share

‘जो मैं जानता हूं, वह जानता हूं। जो मैं नहीं जानता, वह नहीं जानता।’ यह ज्ञान है।

योग या परम प्रकृति को जानने के चार मुख्य मार्ग हैं – भक्ति, ज्ञान, क्रिया और कर्म। इनमें से ज्ञान को गहरे चिंतन के साथ जोड़कर देखा जाता है। क्या तर्क करने की क्षमता और दर्शन शास्त्रों की व्याख्या करने से ज्ञान योग के पथ पर आगे बढ़ा जा सक

Share
loading...
Subscribe to RSS - spritual

INTERNATIONAL

News Wing
Beijing, 18 November: अरुणाचल प्रदेश की सीमा के पास स्थित तिब्बत के न्यिंगची क्षे...