Skip to content Skip to navigation

‘उत्तर कोरिया में 3.5 तीव्रता का भूकंप, परमाणु परीक्षण का शक

News Wing

Seoul, 23 September : उत्तर कोरिया में हाल ही में किये गये परमाणु परीक्षण के स्थल के समीप आज 3.5 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया. चीन की भूगर्भविज्ञान सेवा ने इसे ‘‘संदिग्ध विस्फोट’’ बताया लेकिन दक्षिण कोरिया ने प्राकृतिक भूकंप माना. उत्तर कोरिया की परमाणु महत्वाकांक्षा पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन के बीच वाकयुद्ध से अंतरराष्ट्रीय समुदाय के हलकान होने के बाद यह भूकंप आया है.

इसी जगह किया था परमाणु परीक्षण

‘यूनाइटेड स्टेट्स जियोलॉजिकल सर्वे’ (यूएसजीएस) ने कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण स्थल से करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर भूकंप महसूस किया गया है. उत्तर कोरिया ने इसी जगह के पास इस माह के प्रारंभ में अपना छठा और सबसे शक्तिशाली परमाणु परीक्षण किया था. उसने दावा किया था कि उसने हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया है और इस बम को मिसाइल पर फिट किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें : अभी और मिसाइल दागनी हैं : उत्तर कोरिया

भूकंप प्राकृतिक या कोई सैन्य परीक्षण

यूएसजीएस ने एक बयान में कहा, ‘‘यह घटना उत्तर कोरिया के पिछले परमाणु परीक्षणों वाले क्षेत्र में हुई है. हम फिलहाल इस घटना की प्रकृति (प्राकृतिक या मानवनिर्मित) की निर्णायक ढंग से पुष्टि नहीं कर सकते. गहराई ज्यादा नहीं थी और भूगर्भ विज्ञानी महज इसे पांच किलोमीटर बता रहे हैं.’’ क्षेत्रीय विशषेज्ञ भूकंप के अपने विश्लेषण में भिन्न राय रख रहे हैं. चीन के ‘चाइना अर्थक्वेक नेटवर्क सेंटर’ :सीईएनसी: ने इसे संदिग्ध विस्फोट बताया जबकि दक्षिण कोरिया के कोरिया मेटियोरोलोजिकल ऐडमिनिस्ट्रेशन (केएमए) ने इसे ‘‘प्राकृतिक भूकंप’’ माना है.



यह भी पढ़ें : उत्तर कोरिया ने जापान के ऊपर से फिर दागी मिसाइल, सुरक्षा परिषद की आपात बैठक



कर चुका है हाइड्रोजन बम का परीक्षण

दक्षिण कोरियाई संवाद समिति ‘योन्हप’ ने ‘केएमए’ के एक अधिकारी के हवाले से कहा, ‘‘इस बात की कोई संभावना नहीं है कि यह कृत्रिम भूकंप हो.’’ तीन सितंबर को उत्तर कोरिया का परमाणु परीक्षण देश का बससे शक्तिशाली परीक्षण था. उससे 6.3 तीव्रता का भूकंप आया था उसे चीन के सीमावर्ती क्षेत्रों में महसूस किया गया था. सीईएनसी ने कहा कि परीक्षण के शीघ्र बाद दूसरा भूकंप संभवत: जमीन धंस जाने की वजह से आयी थी.

अमेरिका को चुनौती

उत्तर कोरिया के इस कदम की वैश्विक निंदा हुई और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने नये प्रतिबंध लगाये जिसमें तेल पर भी पाबंदी शामिल है.

इस हफ्ते किम एंव ट्रंप के बीच वाकयुद्ध एक नये स्तर पर पहुंच गया जब संयुक्त राष्ट्र में अपने पहले भाषण में ट्रंप ने चेतावनी दी कि अमेरिका या उसके सहयोगी खतरे में आते हैं तो अमेरिका उत्तर कोरिया को पूरी तरह तबाह कर देगा. 

रक्षा के लिए परामणु हथियार

कल उत्तर कोरिया ने जवाब दिया और उसके नेता किम ने ट्रंप को ‘मानसिक रुप से विक्षिप्त बोटार्ड’ करार दिया था और इतिहास में सबसे बड़ा बदला लेने की धमकी दी थी. उत्तर कोरिया का कहना है कि उसे अमेरिकी हमले से अपनी रक्षा के लिए परामणु हथियार चाहिए.

Share

Add new comment

loading...