Skip to content Skip to navigation

सुषमा स्वराज ने अपने पांच देशों के समकक्षों के साथ की बैठक

News Wing

New York, 19 September: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने द्विपक्षीय सहयोग और भारत के विकास एजेंडा को आगे बढ़ाने के मकसद से, संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर पांच देशों के अपने समकक्षों के साथ बैठक की. उन्होंने ट्यूनीशिया, बहरीन, लातविया, संयुक्त अरब अमीरात और डेनमार्क के विदेश मंत्रियों के साथ बातचीत की.

द्विपक्षीय सहयोग पर केंद्रित थी बातचीत

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि वार्ता मुख्य रूप से द्विपक्षीय सहयोग पर केंद्रित थी.  बैठक के दौरान सुषमा ने ट्यूनीशिया के विदेश मंत्री खेमेइस झिनाओई से कहा कि वह 30 और 31 अक्तूबर को नई दिल्ली में दोनों देशों के बीच होने वाली संयुक्त आयोग की अगली बैठक का इंतजार कर रही हैं.

रवीश कुमार ने कहा कि आर्थिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिए बहुत सी चर्चाएं की गईं. भविष्य में फार्मा, वस्त्र, जैव प्रौद्योगिकी, नवीकरणीय ऊर्जा और सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों में सहयोग करने पर चर्चा की गई. उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज ने यह देखा कि भारतीय फर्मा उत्पादों खासकर टीकों को ट्यूनीशिया में बड़े पैमाने पर निर्यात किया जा सकता है क्योंकि उनकी दवाओं की दरें प्रतिस्पर्धात्मक हैं.

डेनमार्क के विदेश मंत्री एंडर्स सैमुअलसन के साथ मुलाकात में अगली संयुक्त आयोग की बैठक की तारीख तय करने पर भी चर्चा की गई. बता दें कि डेनमार्क नवंबर के पहले हफ्ते में होने जा रहे वर्ल्ड फूड इंडिया एक्स्ट्रावेगेंजा में भी भागीदारी कर रहा है. उन्होंने भारत में निवेश के लिए भी डेनमार्क को आमंत्रित किया.

व्यापार संबंधों के विस्तार पर चर्चा

सुषमा की लातविया के विदेश मंत्री एडगर्स रिनकेविक्स के साथ बैठक में व्यापार संबंधों के विस्तार पर चर्चा की गई. कुमार ने कहा कि लातविया के विदेश मंत्री ने घोषणा की है कि उनके प्रधानमंत्री इस साल के अंत में होने वाले विश्व खाद्य सम्मेलन के लिए भारत जाएंगे. साथ ही उन्होंने बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी, शिक्षा और संस्कृति जैसे क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने को लेकर दोनों नेताओं ने चर्चा की.

यूएई के विदेश मंत्री अब्दुल्ला बिन जायद अल नहयान के साथ वार्ता में दोनों नेताओं ने यूएई से और अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत में लाने के प्रयासों पर चर्चा की. यूएई भारत का रणनीतिक साझेदार है. भारत और यूएई के बीच 52.8 अरब अमेरिकी डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार होता है.

कुमार ने कहा कि यह देखा गया कि इस समय यह दर, क्षमता से कम है. ऊर्जा क्षेत्र, नागरिक उड्डयन खासकर क्षमता निर्माण और बेहतर कार्यप्रणालियों में सहयोग को लेकर चर्चा की गई. अंतिम द्विपक्षीय वार्ता के लिए सुषमा स्वराज बहरीन के अपने समकक्ष खालिद बिन अहमद अल खलीफा से मिलीं.

कुमार ने बताया कि दोनों देशों के बीच विदेश मंत्रालय स्तर पर संयुक्त आयोग की पहले से ही एक व्यवस्था मौजूद है और दोनों नेताओं ने चर्चा की कि कैसे यह बैठक जल्द से जल्द हो.

उन्होंने बताया कि कुछ चर्चाएं क्षेत्रीय मुद्दों पर भी हुईं खासकर खाड़ी की स्थिति पर.

Share

Add new comment

UTTAR PRADESH

News WingGajipur, 21 October : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोटरसाइकिल पर आए हमलावरों ने राष्ट्रीय स्...
News Wing Uttar Pradesh, 20 October: धनारी थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक इनामी बदमाश औ...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us