Skip to content Skip to navigation

अमेरिका में 9/11 हमले की बरसी आज, ग्राउंड जीरो पर जुटेंगे हजारों लोग

News Wing

New York, 11 September : 
अमेरिका के इतिहास के बेहद डरावने दौर 9/11 हमले की आज बरसी है. अमेरिकी धरती पर भयावह आतंकी हमले की बरसी पर आज इस हमले के हजारों पीड़ितों के संबंधी, हमले में बच गए लोग, बचावकर्मी और अन्य लोग उस स्थान पर पहुंच सकते हैं जहां कभी वर्ल्ड ट्रेड सेंटर हुआ करता था.

हमले को सोलह वर्ष हो गए हैं और श्रद्धांजिल देने की एक ऐसी परंपरा बन गई है कि हमले में मारे गए सभी लोगों के यहां इस दिन नाम पढ़े जाते हैं. कुछ पल का मौन रखा जाता है. फिर घंटे की ध्वनि सुनाई पड़ती है और दो शक्तिशाली लाइट बीम रातभर रोशनी फैलाती रहती हैं.

कुछ घटनाएं अपनों को जुदा करती हैं, पर प्रेम खत्म नहीं होता

हर बार इस कार्यक्रम में अपनेपन का अहसास बढ़ता जाता है. बीते वर्षों में नाम पढ़ने वालों ने कई संदेश इस मौके पर जोड़े हैं जिनमें से कुछ सभी पीड़ितों के लिए आम संदेश की तरह होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत संदेश होते हैं. मसलन, ‘‘हमें ऐसा लगता है कि कुछ चीजों ने हमें जुदा कर दिया है लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है. हम सब इस एक धरती का हिस्सा हैं’’ और ‘‘हम आपसे प्रेम करते हैं और आपकी जुदाई महसूस करते हैं.’’ जूडी ब्राम मर्फी ने पिछले वर्ष लिखा था, ‘‘ न्यूयॉर्क शुक्रिया, 9/11 के पीड़ितों को निरंतर सम्मान देने के लिए और उनके नाम पढ़ने के लिए’’ उनके पति ब्रायन जोसफ मर्फी की इस हमले में मौत हो गई थी.

मारे गए थे 3000 से ज्यादा लोग

अपहृत विमानों के जरिए 11 सितंबर 2001 को ट्रेड सेंटर, पेंटागन और पेनसिल्वेनिया के शांक्सविले के पास एक स्थान पर हमला किया गया था जिसमें लगभग 3,000 लोग मरे गए थे. इसके बाद अमेरिका वैश्विक आतंकवाद के खतरे को लेकर नए सिरे से सचेत हुआ था.

न्यूयॉर्क के रहने वाले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस बरसी पर देश के अगुआ के तौर पर पहली बार मौजूद हैं. 

शांक्सविले स्मारक पर निर्माण अभी जारी है जहां मारे गए 33 यात्रियों और चालक दल के सात सदस्यों के सम्मान में यहां 93 फुट ऊंचा ‘टॉवर ऑफ वॉइसेस’ बनना है.

Lead
Share
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us