Skip to content Skip to navigation

पाक ने ब्रिक्स का किया विरोध, कहा : हमारी धरती आतंकवाद की पनाहगाह नहीं

News Wing

Islamabad, 05 September : आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव का सामना कर रहे पाकिस्तान ने आज चीन सहित ब्रिक्स देशों के घोषणापत्र को खारिज कर दिया और कहा कि उसकी धरती पर आतंकवादियों के लिए कोई ‘‘सुरक्षित पनाहगाह’’ नहीं है.

ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं ने कल चीन के श्यामन में आयोजित ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में आतंकवाद के सभी स्वरूपों की निंदा की और पाकिस्तान में स्थित सहित आतंकवादी समूहों सहित सभी आतंकी संगठनों की ओर से उत्पन्न खतरे को लेकर चिंता व्यक्त की.

यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ समन्वित कार्रवाई का किया आह्वान



हम घोषणापत्र को ख़ारिज करते हैं

43 पृष्ठों वाला घोषणापत्र ब्रिक्स के पूर्ण सत्र में पारित किया गया और इसमें क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति के साथ ही तालिबान, आईएसआईएस, अलकायदा और उसके सहयोगी संगठनों ईस्टर्न तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट, इस्लामिक मूवमेंट आफ उज्बेकिस्तान, हक्कानी नेटवर्क, लश्करे तैयबा, जैशे मोहम्मद, तहरीके तालिबान और हिज्ब उत तहरीर द्वारा की जाने वाली हिंसा पर चिंता व्यक्त की गई.

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने नेशनल असेंबली की रक्षा पर स्थायी समिति की एक बैठक में कहा, ‘‘हम ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के सदस्य देशों की ओर से जारी घोषणापत्र को खारिज करते हैं.

Lead
Share
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us