Skip to content Skip to navigation

वृद्धि दर में गिरावट का दौर अभी बीता नहीं, मोदी हमारी सरकार की बराबरी नहीं कर सकते : मनमोहन सिंह

News Wing

Surat, 02 December : पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज दूसरी तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 6.3% रहने का स्वागत किया है, लेकिन साथ ही सावधान भी किया कि पिछली पांच तिमाहियों में देखा गया गिरावट का दौर पलट गया है, ऐसा कहना अभी जल्दबाजी होगा. सिंह ने यह भी कहा इस दर पर नरेंद्र मोदी सरकार के लिए संप्रग सरकार के दस साल के शासन की औसत वृद्धि दर की बराबरी कर पाना भी संभव नहीं होगा.

यह भी पढ़ें : मूडीज ने भारत की रेटिंग में किया सुधार, कहा सुधारों से मिलेगी आर्थिक वृद्धि को गति

व्यापारियों के साथ एक बातचीत में सिंह ने कहा, ‘‘जुलाई-सितंबर तिमाही में देश की वृद्धि दर 6.3% रही है. यह स्वागतयोग्य है, लेकिन यह कहना बहुत जल्दबाजी होगी कि पिछली पांच तिमाहियों में देखा गया गिरावट का दौर बीत गया है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने नोटबंदी और जीएसटी के अनौपचारिक क्षेत्र पर पड़े प्रभाव का ठीक से आकलन नहीं किया है. यह क्षेत्र देश की अर्थव्यव्स्था का करीब 30% हिस्सा है.’’

राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग के पूर्व चेयरमैन प्रणव सेन और अर्थशास्त्री एम. गोविंद राव का हवाला देते हुए सिंह ने कहा, ‘‘जीडीपी की वृद्धि के बारे में अभी भी महत्वपूर्ण अनिश्चिताएं हैं. भारतीय रिजर्व बैंक का अनुमान है कि 2017-18 में अर्थव्यवस्था 6.7% की वृद्धि दर से रफ्तार पकड़ेगी. यदि 2017-18 में यह दर 6.7% होती भी है तो मोदी जी के चार साल के कार्यकाल की औसत वृद्धि दर मात्र 7.1% रहेगी.’’

यह भी पढ़ें : जीएसटी, नोटबंदी का असर शहरों की रीयल इस्टेट रैंकिंग पर

सिंह ने दावा किया कि मोदी सरकार पिछली संप्रग सरकार के 10 साल के शासन की औसत वृद्धि दर की बराबरी करने में भी समर्थ नहीं होंगी. उन्होंने कहा कि बराबरी के लिए मोदी सरकार के अंतिम वर्ष में वृद्धि दर 10.6 प्रतिशत रहेगी. उन्होंने कहा , ‘ऐसा होता है तो मुझे खुशी होगी. पर स्पष्ट कहें तो मुझे नहीं लगता कि ऐसा हो सकेगा.’ पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि जीडीपी में एक प्रतिशत का नुकसान देश का 1.5 लाख करोड़ रूपए का नुकसान है. जिस नौजवान की नौकरी जाती है, जिस दुकानदार का कारोबार बंद होता है. जो कंपनी बंद होती और जो उद्यमी कारोबार से बाहर हो जाता है उसके लिए वह भारी निराशा की बात होती है.

यह भी पढ़ें : बुनियादी ढांचे पर खर्च के कारण हासिल नहीं हो पाएगा राजकोषीय घाटे का लक्ष्य

Top Story
Share

Add new comment

loading...