Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

फर्रूखाबाद: FIR से भड़के डॉक्टर करेंगे हड़ताल, सामूहिक इस्तीफा देने की धमकी

Lucknow, 4 September: फर्रूखाबाद में डाक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए उत्तर प्रदेश चिकित्सा सेवा संघ (यूपीपीएमएस) ने आज फैसला लिया है कि इस मुद्दे पर जिले के सभी डाक्टर पांच और छह सितंबर को सामूहिक अवकाश पर रहेंगे और अगर डाक्टरों के खिलाफ दर्ज कराया गया मामला वापस न लिया गया तो सात सितंबर को सामूहिक त्यागपत्र देंगे.

यह भी पढ़ें: फर्रुखाबाद में ऑक्सीजन और दवा की कमी से 49 बच्चों की मौत, सीएमएस व डॉक्टरों पर मुकदमा दर्ज

डाक्टर पांच और छह सितंबर को सार्वजनिक अवकाश पर रहेंगे

उत्तर प्रदेश चिकित्सा सेवा संघ की फर्रूखाबाद में आयोजित बैठक में मांग की गयी कि डाक्टरों के खिलाफ दर्ज किये गये मुकदमे वापस हो और संघ ने धमकी दी कि वह कल से सामूहिक अवकाश पर रहेंगे. चिकित्सा सेवा संघ फर्रूखाबाद इकाई के सचिव डा. योगेंद्र सिंह ने बताया कि मामले में गठित सिटी मजिस्ट्रेट और एसडीएम की कमेटी को कोई तकनीकी जानकारी नहीं है और गलत रिपोर्ट दी गयी है. उन्होंने कहा कि आज हुई बैठक में यह फैसला लिया गया कि सभी डाक्टर पांच और छह सितंबर को सार्वजनिक अवकाश पर रहेंगे. उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो जिले के सभी डाक्टर सात सितंबर को सामूहिक इस्तीफा दे देंगे.

यह भी पढ़ें: गोरखपुर कांड : मुख्यमंत्री योगी के आदेश पर 7 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

गैर तकनीकी लोगों द्वारा बनाई गयी रिपोर्ट 

उत्तर प्रदेश चिकित्सा सेवा संघ के अध्यक्ष डा. अशोक यादव ने लखनऊ में भाषा के माध्यम से बताया कि जिस रिपोर्ट के आधार पर डाक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है वह गैर तकनीकी लोगों द्वारा बनाई गयी है. अगर इस मामले की जांच करानी थी तो विशेषज्ञों की कमेटी गठित की जानी चाहिये. यह डाक्टरों को परेशान करने का प्रयास है जो विपरीत परिस्थतियों में काम करते है. उन्होंने कहा कि सरकार को ऐसे अधिकारियों को तुरंत वापस बुला लेना चाहिये जिन्हें ऐसे मामलों की जांच करने का अनुभव नहीं है. हम पूरे मामले पर नजर रख रहे है और आगे क्या कार्रवाई की जाये इस बाबत जल्द फैसला लेंगे. उन्होंने कहा, ‘इस मामले में मुझे साजिश नजर आ रही है.’ 

यह भी पढ़ें: गोरखपुर कांड: डॉ कफील को यूपी STF ने किया गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में इस महीने हुई 290 बच्चों की मौत

योगी सरकारी की डॉक्टरों पर कड़ी कार्रवाई

गौरतलब है कि फर्रुखाबाद जिला संयुक्त अस्पताल में एक महीने के दौरान 49 नवजात बच्चों की मौत के मामले में प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने आज कड़ी कार्रवाई करते हुए जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी तथा जिला महिला अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक का तबादला कर दिया. जिला प्रशासन द्वारा करायी गयी जांच में आक्सीजन की कमी तथा इलाज में लापरवाही बरतने के आरोप में कल रात शहर कोतवाली में नगर मजिस्ट्रेट जयनेन्द्र कुमार जैन की तहरीर पर मुख्य चिकित्साधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एवं अन्य के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया है.

यह भी पढ़ें: गोरखपुर मौत मामले में यूपी सरकार दें जवाब- हाईकोर्ट

Top Story
Share
loading...