Skip to content Skip to navigation

गूगल चाहता है आप उसके साथ बातें ज्यादा करें

News Wing

Newsdesk, 17 August: गूगल ऐसी कोशिश में है कि आप टाइप कम करें और उससे बातें ज्यादा करें. क्योंकि टाइप करने से ज्यादा आसान बात करना है. साथ में गूगल इस बात से भी वाकिफ है कि कई लोग टाइप करने से ज्यादा बात कर सकते हैं. दुनिया भर में अभी तक गूगल ने 119 भाषा में अपने सॉफ्टवेयर को डेवलप कर लिया है. आने वाले दिनों में गूगल इस दिशा में और भी काम करने वाली है.

अब सर्च के लिए चिल्लाने की जरूरत नहीं

अक्सर देखा जाता है कि जो गूगल में वाइस सर्च करना लोग ज्यादा पसंद करते हैं. लेकिन, उन्हें भीड़भाड़ वाले इलाके में ज्यादा  चिल्लाना पड़ता है. आस-पास की आवाज की वजह से गूगल आपकी बात को अच्छी तरह से सुन नहीं पाता है. इस कमी को दूर करने के लिए गूगल के टेकनिकल प्रोग्राम मैनेजर दान वान इश्च ने दावा किया है कि आने वाले दिनों में ऐसे तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा जिससे गूगल आपकी ज्यादा बातें और भाषाएं समझ पाए.

अभी किस भाषा को समझता है गूगल

अभी गूगल बंगाली, गुराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी, नेपाली, सिनहाला (श्रीलंका), तमिल, तेलुगू और उर्दू  

Share
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us