वार्ड दो में भट्ठा टोला की सड़क बनी हुई है गटर, पानी की समस्या से हैं लोग परेशान

Submitted by NEWSWING on Wed, 03/14/2018 - 11:28

Ranchi : वार्ड नंबर दो में विकास कई जगहों पर अधुरा दिखा. इन जगहों पर लोग सड़क और पानी की समास्या से पिछले कई साल से जुझ रहे हैं. उनका कहना है कि वे पार्षद के काम से संतुष्ठ नहीं हैं. हमारे मुहल्ले में विकास तो दूर, समास्याओं का निदान भी नहीं हो रहा है. जैसे कई खराब चापाकल अभी तक नहीं बनाये गये हैं. हर जगह पर सड़कों को कोड कर गढ्ढा कर दिया गया है.

सड़क बना गटर

सड़क बना गटर
सड़क बना गटर

वार्ड दो के भट्ठा टोला की सड़कों पर पिछले कई महीनों से नालियों का गंदा पानी जमा होता आ रहा है. ध्यान नहीं देने पर अब यह सड़क गटर की शक्ल ले चुका है. विरेंद्र का कहना है कि इस सड़क पर जमा हुआ पानी नालियों का है. लोगों को आने-जाने में काफी परेशानी होती है. वहीं इस मुहल्ले के लोगों के सामने जल संकट भी है. यहां पर कई घरों के लोग पुराने कुएं से पानी भरते हैं, जो गर्मी के दिनों में सूख जाता है.

इसे भी पढ़ें- झारखंड सरकारी कर्मचारियों को सांतवा वेतनमान के भत्ते पर कैबिनेट की मुहर, राज्य निर्वाचन आयोग की हरी झंडी के बाद मिलेगा लाभ

इसे भी पढ़ें- खूंटी : ग्रामीणों का आरोप- स्‍कूल में स्थित कैंप के जवान करते हैं महिलाओं से छेड़छाड़, कैंप हटाने की ग्राम सभा ने दी नोटिस (देखें वीडियो)

होती है दुर्घटना

होती है दुर्घटना
होती है दुर्घटना

वहीं वार्ड दो के भीट्ठा टोला की पूरी सड़क को कोड़ दिया गया है, जिससे कई जगहों पर बड़े-बड़े रोड़े निकल गये हैं. वार्ड दो निवासी प्रिया सिंह का कहना है इस सड़क की वजह से कई बार लोग गाड़ी को लेकर गिर जाते हैं. घरों पर मोटरसाइकल उतारने-चढ़ाने में दुर्घटना तक हो जाती है. सड़क को कोड़ने के बाद कहा गया था, कि एक माह अंदर सड़क बन जायेगी, लेकिन दो माह हो गये अभी तक काम नहीं लगा है. आपकों बता दें सीवरेज ड्रेनेज बिछाने के लिये कई वार्ड में बनी हुई सड़क को कोड़ा जा रहा है.

कचरा का नहीं होता है उठाव

भीट्ठा टोली के ही सुल्तान ने कहा कि इस मुहल्ले में जगह-जगह कचरा पसरा हुआ मिलेगा. निगम की कचरा उठाने वाली गाड़ियां हफ्ते में एक बार ही आती है, जिसकी वजह से समय-समय पर कचरा का उठाव नहीं हो पाता है. नैमुल अंसारी कहते हैं कि सड़क काफी जर्जर है. पार्षद इस इलाके पर ध्यान नहीं देता हैं. इधर ललीता देवी कहती हैं कि पीने का पानी लाने के लिए काफी दूर जाना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें- ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी के 2 करोड़ 44 लाख फॉलोअर्स फर्जी, ट्विटर ऑडिट के जरिये खुलासा

पार्षद का पक्ष

लगातार पार्षद के मोबाइल पर रिंग करने पर स्वीच ऑफ मिला. पक्ष लेने के लिये पार्षद को मैसेज भी किया गया, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिला है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
Top Story
loading...
Loading...