khas khabar

मोरहाबादी मैदान को अमेरिका की तर्ज पर टाइम्स स्क्वॅायर बनाने का हो रहा है विरोध, जानें क्या कह रहे हैं लोग..

Submitted by NEWSWING on Mon, 02/19/2018 - 21:15

Ranchi :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब अपने पहले विदेशी दौरे पर अमेरिका गये थे, तब लोगों के बीच न्यूयॉर्क का टाइम्स स्क्वायर चर्चा का विषय बना था. क्योंकि यही वो जगह थी, जहां पीएम मोदी का भाषण हुआ था. यही चर्चा इन दिनों रांची में हो रही है. लेकिन मोदी की नहीं, बल्कि रांची के मोरहाबादी मैदान को न्यूयॉर्क की तर्ज पर टाइम्स स्क्वॅायर बनाने की चर्चा हो रही है. दरअसल झारखंड सरकार मोरहाबादी मैदान को न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वॅायर की तर्ज पर बना रही है. इसके अंतर्गत मैदान के चारों तरफ रंग-बिरंगी लाइटिंग और आठ डिसप्ले होंगे. साथ ही एक बड़ा स्टेज होगा.

झारखंड के 14 में 10 सांसदों की पत्नी है कमाऊ, अगली बार से बताना होगा कैसे कमाए लाखों रुपये

Submitted by NEWSWING on Sat, 02/17/2018 - 19:49

Akshay kumar jha

Ranchi: 16 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है. सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि चुनाव लड़ रहे सभी उम्मीदवारों को खुद के अलावा पत्नी और बच्चों की आय के स्रोत को भी उजागर करना होगा. हलफनामें में पत्नी व बच्चों की आय का ब्योरा भी देना होगा. न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर की अध्यक्षता में पीठ ने फैसले में कहा है कि उम्मीदवारों को चुनाव के लिए नामांकन भरने के दौरान पत्नी और बच्चों की आय सहित खुद की आय के स्रोत का खुलासा करना होगा. अदालत ने गैरसरकारी संस्था 'लोक प्रहरी' की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया. 

मोमेंटम झारखंड के एक सालः इसे बरसी कहेंगे या सालगिरह ! सरकारी दावाः हुआ करोड़ों निवेश, राजनीतिक पार्टियां और बिजनसमैन: हाथी उड़ने की बजाय जमीन पर गिरा

Submitted by NEWSWING on Thu, 02/15/2018 - 20:40
Ranchi : एक साल पहले की बात है. आज के दिन रांची दुल्हन की तरह सजी थी. लाखों करोड़ों निवेश लाने के दावे के साथ रंग-बिरंगे पोस्टरों और बैनरों से रांची पटा हुआ था. हर दिवार ऐसी सजी थी जैसे रांची को मेंहदी रची हो. 16 फरवरी 2017 को इस सरकार का ही नहीं बल्कि झारखंड बनने से लेकर अबतक का सबसे बड़ा मेगा शो शुरू हुआ था, नाम था मोमेंटम झारखंड, ग्लोबल इंवेस्टर समिट. मोमेंटम झारखंड के आयोजन के बाद सरकार की तरफ से कहा गया कि राज्य को इस समिट से उम्मीद से दोगुना मिला है. कुल 210 एमओयू हुए. 3,10,277 करोड़ के निवेश का करार कंपनियों ने किया. 11,000 से ज्यादा रजिस्टर्ड डेलिगेट्स आए. जिसमें 600 डेलिगेट्स विदेशी थे.

हजारीबाग के बड़कागांव में हुए 3000 करोड़ के मुआवजा घोटाले की सीबीआई जांच शुरु

Submitted by NEWSWING on Thu, 02/08/2018 - 15:00

 सीबीआई, रांची ने एनटीपीसी के अफसरों के खिलाफ पीई (preliminary enquiry) दर्ज कर शुरु कर दी है जांच
रिटायर आईएएस देवाशीष गुप्ता की रिपोर्ट पर रघुवर सरकार ने नहीं की थी कोई कार्रवाई.
Surjit singh

बकोरिया कांडः प्राथमिकी में 11 बजे हुई मुठभेड़, तब के लातेहार एसपी अजय लिंडा ने अपनी गवाही में कहा रात 2.30 बजे तक एसपी पलामू को नहीं था पता

Submitted by NEWSWING on Tue, 02/06/2018 - 07:33
Ranchi: आठ जून 2015 की रात पलामू के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया के जिस कथित मुठभेड़ में नक्सली अनुराग और 11  निर्दोष लोग मारे गए थे, उस मामले में लातेहार के तत्कालीन एसपी अजय लिंडा ने अपनी गवाही दर्ज करा दी है. अजय लिंडा ने अपने लिखित बयान में कहा है कि आठ जून की रात 2.30 बजे तक पलामू एसपी को इस बात की कोई सूचना नहीं थी कि वहां पर मुठभेड़ हुआ था. उल्लेखनीय है कि घटना को लेकर दर्ज प्राथमिकी में मुठभेड़ का वक्त रात 11.00 बजे का बताया गया है. प्राथमिकी में इस बात का भी जिक्र है कि मुठभेड़ की सूचना तुरंत पलामू के एसपी कन्हैया मयूर पटेल को दी गयी थी. 

सोरेन परिवार के करीबी रवि केजरीवाल की सभी कंपनियां हैं शेल कंपनी, जाने कंपनियों की हकीकत

Submitted by NEWSWING on Sun, 02/04/2018 - 07:25
Akshay Kumar Jha Ranchi: बिना सबूत किसी पर आरोप लगाना गलत है. खास कर पत्रकारिता में बिना जिंदा सबूत के आरोप लगाना पत्रकारिता धर्म के खिलाफ माना जाता है. इसलिए newswing.com पूरे सबूत के साथ उन कंपनियों के बारे आपको बताने जा रहा है, जो या तो रवि केजरीवाल के नाम पर हैं, या फिर रवि केजरीवाल एसोसिएट्स के नामों पर. यह वही रवि केजरीवाल है जिसपर जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन और भाई बसंत सोरेन के लिए फंड जुटाने का और पैसा खपाने का आरोप लगता रहता है. वैसे रवि केजरीवाल झामुमो पार्टी के कोषाध्यक्ष भी हैं. रवि केजरीवाल से जुड़े जिन कंपनियों के नाम 2013 में सामने आए थे. वो सारी कंपनियां फर्जी हैं.

जो शहीद हो गए, उनके आश्रित को नौकरी कब मिलेगी यह पता नहीं, पर नक्सली को सरेंडर के समय ही नौकरी देने का प्रस्ताव

Submitted by NEWSWING on Sat, 02/03/2018 - 19:44

Ranchi: पुलिस मुख्यालय ने नक्सल सरेंडर पॉलिसी ने बदलाव लाने का प्रस्ताव सरकार को भेजा है. प्रस्ताव में कहा गया है कि सरेंडर करने वाले नक्सली को सरेंडर करने के तुरंत बाद सरकारी नौकरी मिलेगी. नौकरी पुलिस या होमगार्ड की मिलेगी. प्रस्ताव के मुताबिक नौकरी दिए जाने के बाद यदि सरेंडर करने वाला व्यक्ति किसी नक्सली गतिविधि में शामिल पया जाता है या उसके द्वारा पूर्व में की गयी किसी घटना में अदालत द्वारा सजा सुनायी जाती है, तब इस परिस्थिति में उसकी नौकरी समाप्त (बरखास्त) कर दी जायेगी. पुलिस मुख्यालय का प्रस्ताव अभी सरकार के पास लंबित है.

कंपनियों को सब्सिडाइज्ड दर पर मिलने वाले कोयला में रिजेक्टेड कोल व डस्ट मिलाकर हर रैक 40 लाख की अवैध कमाई कर रहे कारोबारी

Submitted by NEWSWING on Fri, 02/02/2018 - 10:25

** सब्सिडी पर करीब 2000 रुपया प्रति टन सस्ता कोयला मिलता है कंपनियों को.

** 4000 टन कोयला में 1500 टन घटिया व 500 टन डस्ट मिलाकर हो रही रैक लोडिंग.

** धनबाद के भागा व दुग्धा और रामगढ़ के गोला व बरकाकाना रेलवे साइडिंग पर चल रहा खेल.

** जेपी, जेवीके और बंगाल पावर को हर साल जाता है करीब 50 लाख टन कोयला.

सभी राजनीतिक दलों ने कुड़मियों को ठगा, सुदेश और रामटहल सबसे ज्यादाः शीतल ओहदार (देखें इंटरव्यू)

Submitted by NEWSWING on Thu, 02/01/2018 - 06:54

newswing.com से बात करते हुए कुड़मी विकास मोर्चा के शीतल ओहदार ने कहा सुदेश और रामटहल जैसे राजनेता कुड़मी समाज के लिए सबसे बड़ी चुनौती, रघुवर दास से सीखें

loading...
Loading...

NEWSWING VIDEO PLAYLIST (YOUTUBE VIDEO CHANNEL)