न्यूज विंग की खबर की हुई पुष्टि - सीएम ने धनबाद के एसएसपी को लगायी फटकार, कहा 24 घंटे के भीतर रोके कोयला चोरी

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 03/17/2018 - 06:09

Ranchi : न्यूज विंग की खबर एक बार फिर सच निकली. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शुक्रवार को धनबाद के एसएसपी मनोज रतन चोथे को फटकार लगायी. कहा कि 24 घंटे के भीतर कोयला चोरी पर रोक लगायें . बेईमान थानेदारों को हटायें. सीएम के बाद स्थानीय विधायकों ने भी कोयला चोरी की बात को सही बताया. 

दरअसल, सात मार्च तो कोयला चोरी पर हमने एक खबर प्रकाशित किया था. जिसमें खबर यह थी कि पश्चिम बंगाल से चोरी का कोयला धनबाद लाकर डिस्को पेपर के जरिये मंडियों में बेचा जा रहा है. हर दिन 150 ट्रक कोयला डिस्को पेपर के जरिये ब्लैक मार्केट में भेजा जा रहा है. सरकार को जीएसटी में करीब 80 करोड़ रुपया सालाना का नुकसान हो रहा है. झारखंड के पुलिस अफसरों की मिलीभगत से चल रहा है कोयला का अवैध करोबार. अफसरों को प्रति ट्रक 30 हजार रूपया मिलता है. इस अवैध कारोबार से पश्चिम बंगाल सरकार और कोल मंत्रालय को भी हो रहा है भारी नुकसान.

इससे पहले न्यूज विंग ने एक और खबर प्रकाशित किया था, जिसमें बताया गया था कि भाजपा के एक बड़े नेता के शह पर धनबाद के विभिन्न इलाकों में कोयले का अवैध कारोबार चल रहा है. भाजपा नेता के मधुर संबंध एक बड़े पुलिस अफसर से है इसलिए धनबाद के अफसर कार्रवाई नहीं कर रहे. 

इसे भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल से चोरी का कोयला धनबाद में लाकर डिस्को पेपर पर भेजा रहा मंडियों में, हर दिन 150 ट्रक का धंधा, सरकार को सालाना 80 करोड़ का नुकसान

गलत दावा करते हैं सीनियर अफसर

झारखंड सरकार और पुलिस के सीनियर अफसर दावा करते हैं कि कोयला का अवैध कारोबार बंद है.  लेकिन ऐसा है नहीं. धनबाद में कोयले का अवैध कारोबार अब भी जारी है. पश्चिम बंगाल से हर दिन 150 ट्रक चोरी का कोयला धनबाद के मैथन व राजगंज के करीब 30 डिपो में गिरता है. वहां से डिस्को पेपर के जरिये कोयला को वाराणसी या दूसरी जगह की मंडियों तक पहुंचाया जाता है. कोयला का यह काला कारोबार पिछले छह माह से चल रहा है और इसकी जानकारी पुलिस-प्रशासन के अफसरों को भी है. लेकिन कार्रवाई नहीं होती. क्योंकि कुछ वरिष्ठ अफसरों का संरक्षण इस कारोबार को मिला हुआ है. 

इसे भी पढ़ेंः 153 ट्रक कोयला चोरी करने वाले का नाम, पता, ट्रक नंबर सब पता है, फिर भी नहीं पकड़ रही टंडवा पुलिस

झारखंड सरकार को 80 करोड़ रुपये टैक्स का नुकसान

चोरी का कोयला पश्चिम बंगाल से धनबाद में लाकर फिर डिस्को पेपर बनाकर मंडियों में भेजने से झारखंड सरकार को टैक्स का नुकसान हो रहा है. इस कारोबार को नजदीक से जानने वालों के मुताबिक प्रति टन करीब 450 रुपया जीएसटी (प्रति टन मूल्य 9000 रुपया का 5 प्रतिशत) का नुकसान हो रहा है. अवैध कोयला के कारोबारी इन दिनों एक ट्रक पर 38 टन कोयला लोड कर बनारस पहुंचाते हैं. इस तरह एक ट्रक पर 3.42 लाख रुपया का कोयला लोड हो रहा है.  इस हिसाब से प्रति ट्रक 17,100 रुपया टैक्स का नुकसान झारखंड सरकार को हो रहा है. एक दिन में करीब 150 ट्रक कोयला खपाया जा रहा है. इस हिसाब से झारखंड सरकार को प्रति दिन 25.65 लाख रुपया का और प्रति माह 7.70 करोड़ और प्रति वर्ष करीब 92 करोड़ रुपया का नुकसान हो रहा हैं. 

संरक्षण देने वाले अफसरों को मिल रहा प्रति ट्रक 30 हजार रुपया

चोरी का कोयला पश्चिम बंगाल से धनबाद सुरक्षित पहुंचे और उस पर कोई कार्रवाई ना हो, इसके लिए सरकारी महकमें के लोगों को बड़ी राशि दी जाती है. कारोबार से जुड़े लोगों के मुताबिक प्रति ट्रक करीब 30 हजार रुपया अफसरों के बीच बंट रहा है. इसमें धनबाद से लेकर रांची तक के अफसर और कुछ नेता शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः कंपनियों को सब्सिडाइज्ड दर पर मिलने वाले कोयला में रिजेक्टेड कोल व डस्ट मिलाकर हर रैक 40 लाख की अवैध कमाई कर रहे कारोबारी

25 फरवरी को बगोदर थाना ने चार ट्रक कोयला पकड़ा

25 फरवरी को बगोदर थाना की पुलिस ने जीटी रोड पर जांच के दौरान चार ट्रक कोयला पकड़ा था. ट्रक के चालक और खलासी के द्वारा 26 फरवरी तक कोयला के संबंध में कोई कागजात पुलिस के समक्ष नहीं उपलब्ध कराया गया. इसके बाद पुलिस ने चारो ट्रक पर सवार नौ लोगों (चालक व खलासी) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. गिरफ्तार लोगों ने पुलिस को बताया है कि अरुप गांजे उर्फ बाबा, दिनेश तिवारी और मनोज अग्रवाल नामक व्यक्ति के द्वारा पश्चिम बंगाल से चोरी का कोयला बनारस की मंडी में भेजा जा रहा है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...