अपनी मांगो को लेकर राज्य भर के पारा शिक्षक आंदोलनरत, 23 अप्रैल से सीएम आवास का अनिश्चितकालीन घेराव 

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 04/18/2018 - 21:11

Ranchi : राज्य भर के पारा शिक्षक अपनी मांगों की फेहरिस्त के साथ रांची की ओर बढ़ रहे हैं. आज दूसरे दिन अपने पांचों प्रमंडल के शिक्षकों की पदयात्रा जारी रही. कोडरमा से चलकर पारा शिक्षक बुधवार को बरही में रात्रि विश्राम के लिए रुके. वहीं पलामू प्रमंडल के पारा शिक्षकों ने सतबरवा में फिलहाल पड़ाव डाला. वहीं जमशेदपूर और देवघर से चलने वाले पारा शिक्षक भी अपना मार्च आगे बढ़ाते हुए रांची की ओर कूच कर चुके हैं. विदित हो कि राज्य भर के पारा शिक्षक अपनी मांगों को लेकर योजनाबद्ध तरीके से आंदोलन कर रहें हैं, जिसमें वे अपने प्रमंडलों से पदयात्रा पर निकले हैं जो रांची तक पहुंचेंगे. उसके बाद 23 अप्रैल से मुख्यमंत्री आवास का अनिश्चितकालीन  घेराव करेंगे.

इसे भी देखें- चारा घोटाला : दुमका कोषागार मामले में सभी आरोपियों को सजा, डॉ ओपी दिवाकर को सबसे अधिक 14 वर्ष की सजा

पांचों प्रमंडलों से पारा शिक्षक करेंगे कूच

एकीकृत पारा शिक्षक के शिष्टमंडल के सदस्य संजय दुबे ने बताया कि हमने शुरुआत उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के कोडरमा जिले से की है. पांचों प्रमंडल से पारा शिक्षक पैदल मार्च कर रांची पहुंच रहे हैं. दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के गुमलाकोल्हान प्रमंडल के जमशेदपुरसंथाल प्रमंडल के देवघर और पलामू प्रमंडल के डाल्टनगंज से पारा शिक्षक रांची के लिए कूच करेंगे. रास्ते में कई जगहों पर कार्यक्रम होंगे. रात में आराम कर किसी भी हाल में 23 तक रांची पहुंचना है. जहां सीएम आवास का घेराव कर बेमियादी धरना पर बैठना है.

इसे भी देखें- वर्चस्व की लड़ाई में अपराधियों ने कुख्यात जयनाथ साहू गिरोह के सरोज दास को मारी गोली, एक गिरफ्तार

tt
आंदोलनरत पारा शिक्षक

किन मांगों को लेकर पारा शिक्षक कर रहे हैं आंदोलन ?

पारा शिक्षक पांच सूत्री मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं. पहले चरण में इन्होंने शिक्षा मंत्री नीरा यादव के आवास का घेराव किया था. दूसरे चरण में सीएम आवास घेरने की योजना है. इनकी निम्नांकित प्रमुख मांगें हैं-

- समान काम के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक समान वेतन

- टेट पास पारा शिक्षकों की सरकारी शिक्षक के पद पर नियुक्ति

- राज्य के पारा शिक्षकों को ईपीएफ से जोड़ा जाए. ताकि मरणोपरांत या सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें भी थोड़ा सहारा मिले.

- पारा शिक्षक की ट्रेनिंग के लिए जो राशि सरकार की तरफ से ली गयी हैसरकार उसे वापस करे.  पारा शिक्षक कल्याण कोष का गठन हो. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.