भाजपा ने माना कि वह क्रॉस वोटिंग कराने जा रही है, प्रवक्ता ने कहा विपक्ष के कई विधायक उस के संपर्क में

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 20:02

Ranchi : राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के दोनों उम्मीदवार को जीत मिलती है, तो निश्चित तौर पर क्रॉस वोटिंग होगी. अंकों की जादूगरी वाले इस चुनाव में यह तय है. इस बात की तसदीक गाहे-बगाहे बीजेपी के नेतागण दे भी रहे हैं. विधानसभा में कई बीजेपी विधायकों को यह कहते देखा गया है कि विपक्ष की कई नेता अंतरात्मा की आवाज सुनेंगे. सवाल यह कि विपक्ष के विधायकों को अंतरात्मा की आवाज राज्यसभा चुनाव के दौरान ही क्यों सुनायी देगी. बीजेपी के लिए अंतरात्मा की बात सुननी होती, तो वो विपक्ष की पार्टी का हिस्सा रहते ही क्यों. वहीं प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता दीनदयाल बर्णवाल ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह साफ कर दिया है कि क्रॉस वोटिंग होगी. इसके लिए विपक्ष के कई विधायक बीजेपी के संपर्क में भी हैं.

इसे भी पढ़ें - सोनथालिया सबसे अमीर राज्यसभा सांसद के उम्मीदवार, समीर सबसे गरीब

इसे भी पढ़ें - न्यूज विंग की खबर सच निकली, धीरज साहू ने कहा- छुट्टी की वजह से मंगवाया था नामांकन का सैंपल पेपर, जब तक पार्टी नहीं कहेगी तब तक नहीं हूं उम्मीदवार

इसे भी पढ़ें - राज्यसभा के 'रण' का महारथी कौन ? चुनावी गणित का इशारा : फायदे में होकर भी बहुमत से दूर रहेगी बीजेपी

bjp
वाट्स एप ग्रूप पर जारी बयान

दोनों राज्यसभा सीटें जीतकर केंद्र को देंगे मजबूती - दीनदयाल बर्णवाल 

झारखंड भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल बरनवाल ने कहा कि राज्यसभा की दोनों सीट पर जीतना लगभग तय है. भाजपा और NDA गठबंधन के तहत हमारे सभी विधायक के साथ-साथ कई विधायक हमारे संपर्क में हैं, जो राष्ट्रहित और झारखंड के विकास पुरुष मुख्यमंत्री रघुवर दास जी के कार्यों को देखते हुए राज्य हित में हमारे उम्मीदवार को वोट देकर राज्यसभा भेजेंगे. भाजपा का गणित बिल्कुल तय है, पार्टी दोनों सीट पर विजय प्राप्त करेगी और राज्यसभा में दो सीट भेज कर राज्यसभा में भाजपा का बहुमत में बढ़ोतरी करने का काम झारखंड भाजपा करेगी. बर्णवाल ने कहा कि विपक्षी एकता मतदान की तारीख आते-आते खत्म हो जाएगी. क्योंकि कांग्रेस और झामुमो दोनों की दल, दल नहीं बल्कि दलदल है. झारखंड को बदनाम करने के लिए दोनों दलों ने इतिहास रचा है. आपस में भी दोनों दल एक दूसरे को धोखा दे चुके हैं. राज्यसभा चुनाव में समीर उरांव और प्रदीप सोथालिया का जीतना तय है.

इसे भी पढ़ें - पलामू: नकल करते 32 परीक्षार्थी धराये, सभी एक्सपेल्ड, दो वीक्षक भी निलंबित, केंद्राधीक्षक को शोकॉज

इसे भी पढ़ें - दुस्साहस : पिस्का में दिन दहाड़े लोहरदगा जिला कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता की गोली मार कर हत्या

चुनाव की गणित को समझना जरूरी

बीजेपी के पास 43 विधायक है. आजसू के चार जोड़ लिए जाए तो 47 विधायक हो जायेंगे. वहीं गीता कोड़ा, भानू प्रताप शाही कुशवाहा शिवपूजन मेहता की बात की जाए तो आंकड़ा पचास हो जाता है. एक उम्मीदवार को जीतने के लिए 27 मतों की जरूरत है. ऐसे में दोनों सीट जीतने के लिए करीब 54 वोटों की जरूरत होगी. जो 50 से चार ज्यादा है. अगर दोनों सीट बीजेपी की झोली में जाएगी तो निश्चित तौर पर कोई विधायक या तो वोटिंग के लिए नहीं आएगा या फिर क्रॉस वोटिंग होगी. जैसा कि प्रदेश प्रक्ता दीनदयाल बर्णवाल ने पहले ही कह दिया है कि कई विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं, ऐसे में तय हो जाता है कि क्रॉस वोटिंग होगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.