मोदी जी की सैकड़ों विदेश यात्राओं से क्या हासिल हुआ ?

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 06/09/2018 - 11:48

Girish Malviya

कल इकनॉमी के मोर्चे पर एक हैरान कर देने वाली खबर आयी कि संयुक्त राष्ट्र संघ की एक एजेंसी  (यूएनसीटीएडी) की वर्ल्ड इनवेस्टमेंट रिपोर्ट-2018 के मुताबिक 2017 में भारत में आया एफडीआई  यानी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश बीते साल की तुलना में नौ फीसदी कम रहा है. 2017 में बाहर से कुल 40 बिलियन डॉलर का निवेश आया, जो 2016 में 44 बिलियन डॉलर था. साथ ही यह जान लेना समीचीन होगा कि 2018 के शुरुआती पांच महीनों में विदेशी निवेशकों ने भारत के शेयर और डेट मार्केट से जितना धन निकाला है, उतना धन पिछले सात वर्षों में नहीं निकाला गया.

इसे भी पढ़ें - प्रणव मुखर्जी का इतिहासबोध आरएसएस का एंटी थीसिस है

यह गिरते हुए आंकड़े बताते हैं कि मोदीजी ने सिंगापुर में जो कहा वह सच नहीं है और सच तो यह भी नहीं है, जो 2015 में अरुण जेटली बड़े ही फक्र से बोला करते थे कि हमने काले धन को रोकने के लिए मॉरीशस रूट को बंद कर दिया है, तथा सिंगापुर रूट को भी बंद करने के लिए हमने सिंगापुर को चिट्ठी लिख दी है.

तो सच क्या है? सच यह है कि भारत में 2016-17 में मॉरीशस के रास्ते सबसे अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) आया. इस मामले में मॉरीशस ने पिछले साल के मुकाबले सिंगापुर को पीछे छोड़ा है. मॉरीशस जैसे देश का भारत में निवेश के मामले में नंबर 1 होना चौंकाता इसलिए भी है, क्योंकि टैक्स हैवन मॉरीशस को हवाला के जरिए भारत के ब्लैक मनी को वाइट करने का रूट भी माना जाता है.

मनमोहन सरकार के अंतिम साल में भारत से बाहर होने वाले एफडीआई प्रवाह में मॉरीशस एवं सिंगापुर का हिस्सा 20 फीसदी हुआ करता था. लेकिन मोदी सरकार के पहले दो वर्षों में यह बढ़कर 29-31 फीसदी हो गया. पिछले साल तो इसमें 58 फीसदी की जबर्दस्त वृद्धि दर्ज की गई है.

इसे भी पढ़ें - एक्सपायर हुआ नेपाल हाउस का अग्निशमन यंत्र, आग लगी तो भगवान भरोसे सुरक्षा

यानी कि मोदी जी की सो कॉल्ड ईमानदार सरकार के 4 सालो में अभी भी सबसे ज्यादा निवेश मॉरीशस और सिंगापुर के जरिये ही आ रहा है, जिसके बारे में सभी जानते हैं कि मुख्यत:यहां से किया जाने वाला निवेश भारतीय नेताओं अधिकारियों और उद्योगपतियों की काली कमाई से ही आता है.

इस तथ्य में सबसे बड़ा जो सवाल छिपा हुआ है, वह यह है कि अगर सिंगापुर और मॉरीशस से ही सारा निवेश आ रहा है, तो इन चार सालों में मोदीजी ने जो सैकड़ों विदेश यात्राएं की हैं, उससे क्या हासिल हुआ, क्योंकि यह तो मॉरीशस और सिंगापुर से आ रहा है कि जो पहले भी आता था.

आप कहेंगे कि इस बात का क्या प्रमाण है कि यह हमारा ही काला धन है ? दरअसल सरकारी आंकड़े बताते हैं कि भारत से विदेशों में किए जाने वाले प्रत्यक्ष निवेश (ओडीआई) को हासिल करने के मामले में सिंगापुर 19.7 प्रतिशत के साथ सबसे बड़ा विदेशी स्थान रहा. इसके बाद हॉलैंड और मॉरीशस आते हैं.

इसे भी पढ़ें - माओवादियों के निशाने पर मोदी ! एक और राजीव गांधी कांड की है तैयारी-पत्र से हुआ खुलासा

अब आप फ्लिपकार्ट ओर वालमार्ट की डील को ही देखिए सालों तक फ्लिपकार्ट अमेजन का मुकाबला करते हुए कहता रहा कि वह स्वदेशी कम्पनी हैं, भारतीय स्टार्टअप हैं, लेकिन जब वालमार्ट की डील हुई तो पता चला कि वह तो सिंगापुर की कम्पनी है. जबकि उसका सारा व्यापार भारत में ही है, भारत को इस सौदे में एक फूटी कौड़ी का टैक्स नहीं मिला है और भी जिन बड़े-बड़े स्टार्टअप का नाम लिया जाता है, वह भी सिंगापुर में ही रजिस्टर्ड हैं.

कुल मिलाकर आप यह समझ लीजिये कि यह झूठ और जुमलेबाजियों की बुनियाद पर टिकाया गया सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था' का महल अंदर ही अंदर दरक गया है, और बहुत जल्द टूटने वाला है.

(साभार : गिरिश मालवीय से फेसबुक वॉल से)

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा

नोटबंदी के दौरान अमित शाह के बैंक ने देश भर के तमाम जिला सहकारी बैंक के मुकाबले सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट एकत्र किए: आरटीआई जवाब

एसपी जया राय ने रंजीत मंडल से कहा था – तुम्हें बच्चे की कसम, बदल दो बयान, कह दो महिला सिपाही पिंकी है चोर

बीजेपी पर बरसे यशवंतः कश्मीर मुद्दे से सांप्रदायिकता फैलायेगी भाजपा, वोटों का होगा धुव्रीकरण

अमरनाथ यात्रा पर फिदायीन हमले का खतरा, NSG कमांडो होंगे तैनात

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत