वाह रे रांची पुलिस, पहले तो ढूंढा नहीं, हत्या के बाद अखबारों में विज्ञापन निकाल कर खोज रहे हैं अफसाना को

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 04/12/2018 - 14:21

Ranchi: जिस अफसाना की हत्या के मामले में पुलिस एसआईटी गठित कर हत्यारों की खोज कर रही है, जिस अफसाना के हत्यारों को सजा देने की मांग में लोग कैंडल मार्च निकाल रहे हैं, उस अफसाना को खोजने के लिए रांची पुलिस विज्ञापन जारी कर रही है. जी हां, ये अजब गजब खेल है रांची पुलिस का. समय रहते पुलिस ने तो अफसाना को खोजा नहीं, अब जब छात्रा की दरिंदगी के बाद(जैसी आशंका जताई जा रही है) हत्या कर दी गई, और शव की पहचान छिपाने के लिए उसे जलाने की भी कोशिश हुई, उस अफसाना को अब रांची पुलिस विज्ञापन के माध्यम से ढूंढ रही है. ये रांची पुलिस के प्रकाशन विभाग, IPRD की लापरवाही  का ही नतीजा लगता है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड की बेटियां भी अब सुरक्षित नहीं, राज्य के मुखिया घटना पर हैं मौन : बाबूलाल मरांडी

डीएसपी को नहीं विज्ञापन की जानकारी

जिस विज्ञापन को लेकर रांची पुलिस की किरकिरी हो रही है. उस विज्ञापन में छपे डीएसपी के नबंर पर जब न्यूज विंग की टीम ने संपर्क किया, तो एक और लापरवाह रवैया सामने आया. डीएसपी साहब को ना तो अखबार में छपे विज्ञापन कि जानकारी थी, ना  ही मामले की. उन्होंने कहा कि हटिया डीएसपी से बात करने के बाद ही वो कुछ बता पाने की स्थिति में होंगे.

6 अप्रैल को हुई थी लापता

गौरतलब है कि छात्रा अफसाना छह अप्रैल की सुबह 11.30 बजे मारवाड़ी महिला कॉलेज फॉर्म भरने के नाम पर घर से निकली थी. लेकिन जब वो शाम तक वापस नहीं लौटी. तब परिजनों ने उसके लापता होने को लेकर पुंदाग ओपी में सनहा दर्ज कराया.  सात अप्रैल को लोहरदगा पुलिस ने  कैरो प्रखंड क्षेत्र के चिप्पो नदी किनारे एक युवती का शव जली अवस्था में बरामद किया. तब परिजनों ने शव के शरीर में एक मस्सा देख कर उसकी पहचान अफसाना के रूप में की.

इसे भी पढ़ें:छात्रा अफसाना परवीन हत्याकांड : पुंदाग एकता मंच ने कैंडल मार्च निकाला, दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग

हत्या के बाद जलाया गया शव

अफसाना परवीन की पहले हत्या की गयी थी, फिर पहचान छिपाने की नीयत से आरोपियों ने उसका शव जला दिया था. इस बात की पुष्टि बुधवार को छात्रा के शव का पोस्टमार्टम करनेवाली टीम  में शामिल लोगों ने किया है.  हालांकि लड़की के साथ रेप हुआ या नहीं, शव जला होने की वजह से पोस्टमार्टम में यह स्पष्ट नहीं हो पाया है.

जांच के लिए एसआईटी गठित

पुंदाग की अफसाना परवीन हत्याकांड में रांची जोन के डीआईजी अमोल वी होमकर ने गुरुवार को एसआईटी का गठन किया है. एसआईटी जांच का नेतृत्व लोहरदगा एसपी राजकुमार लकड़ा करेंगे. समन्वय की जिम्मेदारी हटिया डीएसपी विकास कुमार पांडेय को दी गयी है. टीम में जगन्नाथपुर थानेदार अनूप कुमार कर्मकार, पुंदाग ओपी प्रभारी मो फारुख, किस्को अंचल के इंस्पेक्टर संजय कुमार और कैरो थानेदार रामाशीष पासवान को शामिल किया गया है. वही लोहरदगा एसपी राजकुमार लकड़ा से संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि हत्याकांड का शीघ्र खुलासा कर लिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें:राजधानी में सुरक्षित नहीं है बेटियां, अफसाना के बाद रातू के नाबालिग रेणू की दुष्कर्म के बाद हत्या, ग्रामीणों में आक्रोश

अफसाना परवीन की हत्या का मामला सियासी गलियारों में भी गूंजा. बाबूलाल मंराडी ने पूरे मामले को लेकर रघुवर सरकार पर निशाना भी साधा और कहा कि राज्य में बेटियां सुरक्षित नहीं. अफसाना को न्याय दिलाने की मांग के साथ कई जगहों पर कैंडल मार्च निकाले गये. इतने सारे घटनाक्रम के बावजूद रांची पुलिस का विज्ञापन के जरिये अफसाना को ढूंढना हास्यास्पद भी है और लापरवाह रवैये का उदाहरण भी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...