वाराणसी पुल हादसाः चीफ मैनेजर समेत 4 अधिकारी सस्पेंड, सीएम ने 48 घंटे में मांगी रिपोर्ट

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 05/16/2018 - 10:13

Varanasi: प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में निर्माणाधीन पुल का हिस्सा ढह जाने से जहां 18 लोगों की मौत हो गयी. वही कई लोग जख्मी है. इस हादसे के बाद ओवरब्रिज के मुख्य परियोजना प्रबंधक एच सी तिवारी समेत चार अधिकारियों को मंगलवार देर रात निलंबित कर दिया गया. मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिये कृषि उत्पादन आयुक्त राज प्रताप सिंह की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है, जो 48 घंटे के अंदर मामले की तकनीकी जांच, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के प्रस्ताव के साथ अपनी रिपोर्ट उपलब्ध करायेगी. हादसे पर दुख जताते हुए योगी ने राज्य सरकार की तरफ से मृतकों के परिजन को 5-5 लाख रुपये तथा घायलों को 2-2 लाख रुपये की सहायता का एलान भी किया.

इसे भी पढ़ेंःवाराणसी में दर्दनाक हादसा : निर्माणाधीन पुल गिरा, 12 से ज्यादा लोगों की मौत, कई वाहन दबे

देर रात घायलों से मिले सीएम

वारणसी में दोपहर में हुए इस हादसे के बाद सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देर रात वाराणसी पहुंचे और हालात का जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने अस्पताल में भर्ती घायल लोगों से भी मुलाकात की और उनका हाल जाना. सीएम योगी ने वाराणसी की घटना पर दुख जताते हुए बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना की पूरी जानकारी ली है. साथ ही उन्होंने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि 'हादसे की जांच के लिए उच्च स्तरीय जांच टीम गठित की गई है. साथ ही जांच टीम से 48 घंटे में रिपोर्ट मांगी गई है.'

चीफ मैनेजर समेत 4 अधिकारी सस्पेंड

jh

ओवरब्रिज के मुख्य परियोजना प्रबंधक एच सी तिवारी समेत चार अधिकारियों को मंगलवार देर रात निलंबित कर दिया गया. सस्पेंड किए गए अफसरों में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, प्रोजेक्ट मैनेजर राजेंद्र सिंह, केआर सुदान और एक अन्य राज्य सेतु निगम कर्मचारी लालचंद शामिल हैं.

'नहीं बख्शे जाएंगे दोषी'

योगी ने कहा कि हादसे को लेकर जिम्मेदार लोगों की लापरवाही तय होगी. हम किसी भी दोषी को नहीं बख्शेंगे. रिपोर्ट आते ही ठोस कार्रवाई होगी. एनडीआरएफ और पुलिस ने बचाव कार्य अच्छे से किया. लापरवाही के लिए कहीं भी जगह नहीं, सभी अधिकरियों को हिदायत दी गई है. इस हादसे की भी जबाबदेही होगी.

पीएम ने जताया शोक

अपने संसदीय क्षेत्र में हुए इस हादसे का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात कर स्थिति का जायजा लिया और हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की. साथ ही प्रभावित लोगों की हर सम्भव मदद सुनिश्चित करने को कहा. पीएम मोदी के अलावा उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने ट्वीट कर हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में ओडीएफ की खुली पोल : अब तक मात्र आठ ही जिले ओडीएफ घोषित, सीएम व मंत्री भी जता चुके हैं नाराजगी

बता दें कि बुधवार को वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास एक निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा ढह जाने से मलबे में दबकर कम से कम 18 लोगों की मौत हो गयी. हादसे की चपेट में एक मिनी बस , कार और 8 से 10 मोटरसाइकिलें आ गयी. हादसे के बाद युद्धस्तर पर राहत कार्य चलाया गया. एनडीआरएफ की टीम ने कम से कम तीन लोगों को सुरक्षित बचा लिया है. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश पुल निर्माण निगम इस 2261 मीटर लंबे फ्लाईओवर का निर्माण 129 करोड़ की लागत से कर रहा था. फ्लाईओवर का जो हिस्सा गिरा है , उसे तीन महीने पहले ही बनाया गया था. और जिस वक्त हादसा हुआ, इस दौरान इस हिस्से पर कोई काम नहीं हो रहा था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)
na