लिफ्ट की बजाय सीढ़ियां का करें इस्तेमाल, शरीर को मिलेंगे ये फायदे

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 03/09/2018 - 16:01

Ranchi : क्या आप भी पहली मंजिल से ग्राउंड फ्लोर पर जाने के लिए भी लिफ्ट का सहारा लेते हैं? यदि हां, तो अपनी इस आजत को बदल लिजिंये और लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिये. और यकीन मानिये, आपको एक्सरसाइज करने की भी जरूरत नहीं होगी. दरअसल, सीढ़ियां चढ़ने से शरीर के कई अंगों की एक्सराइज होती है. इतना ही नहीं, ऐसा करने से आप कई गंभीर रोगों से भी बच सकते है. तो चलिये घर हो या ऑफिस आज से ही हम लिफ्ट को कहते है बॉय और रहते है रोगमुक्त........

इसे भी पढ़ें: महिला पुलिसकर्मियों से कार्यस्थल पर यौन शोषण करने के आरोपी प्रभारी सार्जेंट मेजर और रीडर निलंबन मुक्त, IG की रिपोर्ट को दरकिनार कर DGP ने किया बहाल

 

 

मोटापे की संभावना बहुत हद तक हो जाती है कम

एक शोध के अनुसार, जो लोग लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों के सहारे चढ़ते-उतरते हैं, उनमें चर्बी कम होती है. रोजाना दो से तीन मिनट सीढ़ियां चढ़ने से 30 वर्ष की उम्र के बाद बढ़ने वाले मोटापे की संभावना बहुत हद तक कम हो जाती है.

ु्िुि्ुिुिु
मोटापे की संभावना बहुत हद तक हो जाती है कम

 इसे भी पढ़ें: BCCI के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना, सचिव अमिताभ चौधरी और कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी को हटाने की अनुशंसा

असमय मृत्यु की संभावना हो जाती है 33 फीसदी तक

सीढ़ियां चढ़ने से उम्र बढ़ती है. हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति प्रतिदिन सीढ़ियां चढ़ता है, तो इससे असमय होने वाली मौत की संभावना 33 फीसदी तक कम हो जाती है. वहीं प्रतिदिन कोई व्यक्ति लगभग 1.3 मील चलता है, तो मौत की संभावना सिर्फ 22 फीसदी  ही कम होती है. चलने के मुकाबले में सीढ़ियां चढ़ने से हम तीन गुना ज्यादा ऊर्जा का इस्तेमाल करते हैं.

ैाीैाीैाी
असमय मृत्यु की संभावना हो जाती है  कम

इसे भी पढ़ें: झामुमो और कांग्रेस की कुछ चलेगी, या राज्यसभा की दोनों सीट ले उड़ेगी बीजेपी !

जॉगिंग के मुकाबले सीढ़ियां पर चढ़ने से होती है ज्यादा कैलोरीज होती है बर्न

कैलोरी बर्न करने के लिए क्या आप हर दिन जॉगिंग के लिए जाते हैं? तो जान लीजिए कि सीढ़ियां चढ़ने में आपके शरीर से जितनी कैलोरीज बर्न होती हैं, उतनी जॉगिंग से भी नहीं होती हैं. जब हम सीढ़ियों से ऊपर-नीचे आते-जाते हैं, तो पूरे शरीर का वर्कआउट  हो जाता है. शरीर में मौजूद अतिरिक्त कैलोरीज से दिल से संबंधित बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है. मन रहे खुश व शांत- अब आप ये सोच रहे होंगे कि सीढ़ियां चढ़ने से तो आदमी थकता है, हांफने लगता है. भला, कोई खुश कैसे होगा? कई शोध के अनुसार, जब हम सीढ़ियां चढ़ते हैं, तो उस प्रक्रिया में शरीर एक विशेष हार्मोन एंडोर्फिंन्सरिलीज करता है. एंडोर्फिन्स  दिमाग को शांत रखता है और खुशियों का संचार करता है. ऐसे में यदि आप सेहतमंद रहने के साथ-साथ खुशियों में इजाफा करना चाहते हैं, तो प्रतिदिन सीढ़ियों का ही इस्तेमाल करें.

िे्ि्ेि्ि
जॉगिंग के मुकाबले सीढ़ियां पर चढ़ने से होती है ज्यादा कैलोरीज होती है बर्न

इसे भी पढ़ें: :12 हजार की नौकरी के लिए गये थे मलेशिया - अब भूखे मरने की नौबत, तीन महीने से एम्बेसी में फंसे, सुध लेने वाला कोई नहीं

दिल रहता है दुरुस्त

सीढ़ियां चढ़ने से दिल की सेहत भी दुरुस्त होती है. जब हम सीढ़ी चढ़ते हैं, तो उस दौरान हृदय गति बढ़ जाती है. खून नसों में तेजी से दौड़ने लगता है, जिससे दिल तेजी से खून पंप करता है. यह दिल के लिए फायदेमंद है. यदि आप प्रतिदिन सात मिनट सीढ़ियां चढ़ते हैं, तो दिल की बीमारियों की संभावना 60 फीसदी तक कम हो जाती है.

ाैीाैीाैी
दिल रहता है दुरुस्त

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच

टीटीपीएस गाथा : शीर्ष अधिकारी टीटीपीएस को चढ़ा रहे हैं सूली पर, प्लांट की परवाह नहीं, सबको है बस रिटायरमेंट का इंतजार (2)

धोनी की पत्नी को आखिर किससे है खतरा, मांग डाला आर्म्स लाइसेंस

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी