अमेरिका ने सीरिया पर दागीं 1100 करोड़ रुपये की 120 मिसाइलें, रूस ने कहा- तीसरे वर्ल्ड वार के लिए रहें तैयार

Publisher NEWSWING DatePublished Sun, 04/15/2018 - 11:55

Washington : ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर अमेरिका ने सीरिया के सभी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाकर हवाई हमले किये. इस हमले के बाद अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने मिशन को सफल बताया है. ट्रंप ने कहा, यह अभियान पूरी तरह से व्यवस्थित था. हमने सफलतापूर्व सभी ठिकानों को निशाना बनाकर हमले किये. लेकिन, क्या आपको पता है कि इस हमले के दौरान अमेरिका को कितना खर्चा हुआ है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका ने सीरिया पर हमले के लिए एक झटके में 1100 करोड़ रुपये खर्च कर दिए. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक शनिवार तडक़े अमेरिका ने सीरिया पर 120 मिसाइलें दागीं. 

इसे बी पढ़ें - झांसी : मऊरानीपुर थाना प्रभारी का ऑडियो वायरल, कहा- BJP नेताओं को समझ लो, नहीं तो Encounter में मार दिये जाओगे

तीसरे युद्ध के लिए तैयार हो जाएं : रूस

वहीं, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने रूस के उस प्रस्ताव को भारी बहुमत से खारिज कर दिया है जिसमें उसने अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा सीरिया पर किये गये हमले की कड़ी निंदा की बात कही थी. इसके बाद रुस ने जनता से कहा, वे तीसरे युद्ध के लिए तैयार हो जाएं. एक सरकारी रूसी टीवी चैनल ने यह रिपोर्ट दी है. क्रेमलिन के अपने चैनल ने माध्यम से जीने के लिए जरूरी आपूर्ति का सुझाव दिया और लोगों से कहा कि बम शिविर में शरण लेने के दौरान शरीर को रेडिएशन से बचाने के लिए आयोडीन पैक करें. सीरिया में जारी युद्ध के बीच यह रिपोर्ट रोसिया-24 ने दी है. इसके साथ ही शीर्ष सैन्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि दुनिया पहले ही दूसरे क्यूबाई मिसाइल संकट की गवाह बन चुकी है.

इसे भी पढ़ें - अमेरीका ने फ्रांस, ब्रिटेन के साथ मिलकर किया सीरिया पर हमला, रुस ने परिणाम भुगतने की दी चेतावनी

अमेरिका ने करीब 1100 करोड़ रुपये की मिसाइलें दागीं

जानकारी के अनुसार सीरिया पर छोड़े गये सभी टॉमहॉक क्रूज मिसाइलें थीं. एक अमेरिकी टॉमहॉक क्रूज मिसाइल की कीमत करीब साढ़े 9 करोड़ रुपये है. ऐसे में मौजूदा कार्रवाई में अमेरिका ने करीब 1100 करोड़ रुपये की मिसाइलें दागीं. अमेरिका ने हमले में बी-1 बॉम्बर्स, टॉरनैडो जेट्स और युद्धपोत का इस्तेमाल किया. वहीं ब्रिटेन ने चार टॉरनैडो विमानों का इस्तेमाल किया. अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन सीरिया पर हुए हमले को कामयाब बता रहे है. लेकिन, सीरिया सरकार ने हमले से पहले ही सैन्य ठिकानों को खाली करा लिया.

इसे भी पढ़ें - उन्नाव गैंगरेप मामला : भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर सात दिनों की सीबीआई रिमांड पर,  रुआंसे विधायक को याद आये भगवान

सीरियाई सरकार ने सैन्य ठिकानों को हमले से पहले ही खाली करा लिया था

रॉयटर्स ने एक अधिकारी के हवाले से बताया है कि सीरियाई सरकार ने सैन्य ठिकानों को हमले से पहले ही खाली करा लिया था. इस अधिकारी के मुताबिक हमारे पास रूस की ओर से हमले की जानकारी पहले ही मिली थी. वहीं रूस के रक्षा मंत्रालय ने भी कहा है कि सीरियाई सेना ने दशकों पुरानी मशीनों की मदद से अमेरिकी के नेतृत्व वाले मिसाइल हमले को नाकाम किया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

Main Top Slide
loading...
Loading...