मोदी के खिलाफ मुंह खोलने वाले तोगड़िया समेत तीन को बाहर का रास्ता दिखायेगा आरएसएस

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 01/20/2018 - 14:12

New Delhi : विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया इन दिनों खासे चर्चा में हैं. पहले तो उनका अचानक गायब होना फिर मिलने के बाद रोना. इतना ही नहीं मीडिया के सामने यह भी कहना कि उनका एनकाउंटर कराने की तैयारी की जा रही थी. ये सारी बातें इंटरनेशनल मीडिया तक में छायी हुई हैं.

लेकिन अब जो खबरें छनकर सामने आयी हैं. उसमें कहा जा रहा है कि अब केंद्र की मोदी सरकार पर आरोप लगाने वाले तोगड़िया को आरएसएस उनके पद से हटाने की तैयारी में लगी हुई है. साथ ही आरएसएस ने तोगड़िया के अलावा भारतीय मजदूर संघ के जनरल सेक्रेटरी विरजेश उपाध्याय और वीएचपी के अध्यक्ष राघव रेड्डी को भी हटाने का मन बना लिया है.

इसे भी पढ़ें - बेहोशी की हालत में मिले लापता प्रवीण तोगड़िया, रोते हुए कहाः मेरा एनकाउंटर कराने की थी साजिश

इसे भी पढ़ें - मोदी देश की बीमारियों को ठीक करने के लिए सबसे बढ़िया डाक्टर हैं : मेघवाल

तोगड़िया समेत तीन लोगों के रवैये से आरएसएस के पदाधिकारी नाराज

इस बारे में टाइम्स ऑफ इंडिया के सूत्रों की ओर से खबर है कि तोगड़िया समेत तीनों लोगों के रवैये से आरएसएस के पदाधिकारी खुश नहीं हैं. उनका मानना है कि ये तीन लोग खुद का एजेंडा बनाकर सरकार कि किरकिरी करने में लगे हुए हैं. जिससे सरकार को शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. साथ ही  इन दोनों संगठन का संघ की विचारधारा के प्रचार के लिए उपयोग भी नहीं किया जा रहा है. इसके अलावा रिपोर्ट में यह लिखा गया है कि, फरवरी के अंत तक विश्व हिंदू परिषद की कार्यकारी बैठक आयोजित की जायेगी. इस बैठक में आरएसएस परिषद का फिर से चुनाव करने को लेकर दवाब बनाया जायेगी , जिससे राघव रेड्डी को पद से हटाकर नये अध्यक्ष को पद पर बैठाया जा सके. जबकि सिर्फ अध्यक्ष पद पर ही नहीं बल्कि आरएसएस की योजना रेड्डी और तोगड़िया के समर्थकों को भी पद से हटाने की है. रिपोर्ट में इस बात को भी कहा गया है कि संघ के अंदर जिसे भी पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी सरकार के खिलाफत करते पाया जायेगा तो आरएसएस उसे बाहर का रास्ता दिखायेगा.  

इसे भी पढ़ें - “चाटुकारिता बंद करो”, “भ्रष्ट अफसरों के चमचे हाय-हाय” और सीएस की मुस्कुराहट ऐसी जैसे जेठ की दोपहर में तपती जमीन पर बारिश की कुछ बूंदें...    

2019 को लेकर संघ ने लिया निर्णय 

दरअसल संघ ऐसा चाहता है कि 2019 को लेकर जब आम चुनाव होने हैं तो इससे पहले कोई मतभेद या टकराव की स्थिती सामने ना आये.यदि कुछ हो भी तो उसे शांतिपूर्ण तरीके से सुलझा लिया जाये.  उल्लेखनीय है कि बीते हफ्ते तोगड़िया ने आरोप लगाया था कि पुलिस एंकाउंटर में मारने की उनकी योजना बनायी जा रही है. जबकि इससे पहले भी तोगड़िया और विरजेश उपाध्याय कई मुद्दों पर केंद्र और पीएम मोदी के खिलाफ अपना मुंह खोल चुके हैं. इसके अलावा उन अधिकारियों की भी जांच की जा रही है, जिन्होंने पाटीदार कोटा प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.