चीन में आज अमेरिका को चुनौती देने की ताकत, रक्षा खर्च देश पर बोझ नहीं : जनरल बिपिन रावत 

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 03/13/2018 - 21:00

New delhi : चीन आज इस स्थिति में है कि वह अमेरिका को चुनौती दे सकता है, क्योंकि चीन नहीं भूला कि सैन्य ताकत और अर्थव्यवस्था समान रूप से बढ़नी रहनी चाहिए. यह बात आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने मंगलवार को कही.  उन्होंने कहा कि यही वजह है कि चीन आज इंटरनेशलन वर्ल्ड बॉर्डर पर पूरी मजबूती से खड़ा है और अमेरिका को चुनौती दे पा रहा है. जनरल रावत ने कहा कि इसके बाद ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय का फोकस हिंद-प्रशांत क्षेत्र की तरफ शिफ्ट हुआ है.  आर्मी चीफ ने कहा कि जैसे-जैसे चीन का प्रभाव बढ़ता जा रहा है, दुनियाभर के देशों ने भारत की ओर देखना शुरू कर दिया कि क्या हम एक ऐसा देश बन सकते हैं, जो चीन की बढ़ती ताकत को संतुलित कर सके. यह सब चीन की दबंगई के कारण है. इस क्रम में अर्थव्यवस्था की बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर आपकी अर्थव्यवस्था बढ़ रही है तो आपको अपने देश में हो रहे निवेश की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी होगी. जनरल रावत ने रक्षा खर्च की बात करते हुए कहा कि आम धारणा है कि रक्षा खर्च वास्तव में देश पर एक बोझ है. धारणा है कि जो कुछ भी डिफेंस में खर्च किया जाता है उसका कोई रिटर्न नहीं मिलता है. मैं इस मिथक को दूर करना चाहता हूं.

इसे भी पढ़ेंः पत्थलगड़ी के नाम पर लोगों को भड़काने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई : झारखंड सरकार

इसे भी पढ़ेंः झारखंड सरकारी कर्मचारियों को सांतवा वेतनमान के भत्ते पर कैबिनेट की मुहर, राज्य निर्वाचन आयोग की हरी झंडी के बाद मिलेगा लाभ

इसे भी पढ़ेंः रांची नगर निगम : जानिये किस वार्ड में हैं आप, बदल गया है आपका क्षेत्र

थल सेना, वायु सेना और नेवी मजबूत करने की जरूरत

जनरल बिपिन रावत ने कहा कि थल सेना, वायु सेना और नेवी तीनों को समान रूप से मजबूत करने की जरूरत है. कहा कि क्या पूरे रक्षा खर्च का इस्तेमाल सेना को बनाये रखने के लिए ही किया जाता है? उन्होंने कहा कि यह दूसरा मिथक है, जिसे मैं दूर करना चाहता हूं. हमारे बजट का करीब 35 फीसदी राष्ट्र निर्माण में खर्च होता है. जनरल बिपिन रावत ने कहा कि जब हम सीमाओं पर ढांचागत विकास करते हैं, हम उन लोगों को भी जोड़ते हैं जो सुदूर इलाकों में रह रहे हैं. यह देश को एकजुट करने में मदद करता है.

इसे भी पढ़ेंः पलामू : कुख्यात अपराधी बंधु शुक्ला पर पुलिस ने कसा शिकंजा, जेसीबी से मकान को किया ध्वस्त

इसे भी पढ़ेंः सचिवालय कर्मियों की कलमबंद हड़ताल : मुख्य सचिव से वार्ता के बाद मिला आश्वासन, मांगें पूरी नहीं होने पर जायेंगे सामूहिक अवकाश पर

पाकिस्तान को चेतावनी दी आर्मी चीफ ने

पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए आर्मी चीफ ने कहा कि अगर वे सीमा पार से गतिविधियों को बढ़ाते हैं तो हमारे पास अगले लेवल पर जाने का विकल्प है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को पता है कि वह आतंकी गतिविधियों को बढ़ा नहीं सकता. सीमा पार बैठे लोगों को हमसे ज्यादा नुकसान झेलना पड़ रहा है. जनरल ने कहा कि 'हमने यह सुनिश्चित किया है कि उन्हें भी (पाकिस्तान) बराबर नुकसान हो. जब उन्हें लगेगा कि उनका ज्यादा नुकसान हुआ है तो हम अपनी शर्तों पर संघर्ष विराम की बात करेंगे. हम पाकिस्तान की शर्तों पर संघर्ष विराम नहीं चाहते हैं.  चीन के साथ अभ्यास पर आर्मी चीफ ने कहा कि यह हर साल होता है. पिछले साल स्थगित हो गया था, लेकिन यह अभ्यास (हैंड इन हैंड) एक बार फिर पटरी पर है. डोकलाम के बाद चीन के साथ फिर से मीटिंग हुई है. उन्होंने कहा कि चीन के साथ मिलिटरी डिप्लोमैसी कारगर रही है और यह आगे बढ़ रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच

टीटीपीएस गाथा : शीर्ष अधिकारी टीटीपीएस को चढ़ा रहे हैं सूली पर, प्लांट की परवाह नहीं, सबको है बस रिटायरमेंट का इंतजार (2)

धोनी की पत्नी को आखिर किससे है खतरा, मांग डाला आर्म्स लाइसेंस

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी