बिना शादी किये सालों से रह रहे थे साथ, बच्चे भी हैं, अब होगी एेसे 51 जोड़ियों की शादी, जानें क्या थी वजह

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/23/2018 - 19:02

Ranchi : रांची के जैप ग्राउंड कल एक अनूठे आयोजन का गवाह बनने को तैयार है. शनिवार को 51 जोड़ियों की शादी होनी है. इस आयोजन की सबसे खास बात ये है कि सभी के सभी जोड़ियों के पहले से बच्चे हैं. मुख्यमंत्री रघुवर दास इस आयोजन में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे. ये लोग अब तक लिव इन रिलेसनशिप में रह रहे थे. सामाजिक मान्यताओं और कई रस्मों-रिवाजों से इनके बच्चे महरुम न रह जाएं, इसलिए ये अब शादी के पवि़त्र बंधन में बंधने जा रहे हैं. अब तक गरीबी इनकी शादी में बाधा बन रही थी, पर इनके इस समस्या के समाधान के लिए निमित्त ने जेएसएलपीएस, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम, बैंक ऑफ इंडिया को साथ लेकर आई जो इस पूरे आयोजन का खर्च वहन करेंगी.

इसे भी पढ़ेंः अब डुमरी विधायक जगरनाथ महतो ने अफसरों को धमकाया, सीओ व अंचलकर्मियों से कहा- बाल-बच्चा, नौकरी से प्यार है तो सुधर जाओ

इसे भी पढ़ेंः बीजेपी विधायक साधु चरण महतो ने सुबह में भू-अर्जन पदाधिकारी दीपू कुमार को दी धमकी और दोपहर में पीटा

ब्यूटीशियन संवारेंगी दुल्हन को

इस सामूहिक विवाह के दौरान दुल्हन खुबसूरत लगे इसका भी पूरा ख्याल रखा गया है. इनको संवारने का जिम्मा ब्यूटीशियन के हाथों में है. ये सभी आजीविक मिशन से ट्रेनिंग प्राप्त कर चुकी महिलाएं हैं. इसके साथ ही इस वृहद आयोजन के कैटरिंग का जिम्मा भी आजीविका मिशन से ही ट्रेनिंग प्राप्त कर अपना कैफे चलाने वाली महिलाओं के हाथों में ही है.

हिन्दुस्तान पेट्रोलियम करेगा खर्च

कार्यक्रम के दौरान होने वाले खर्च का वहन हिन्दुस्तान पेट्रोलियम मुख्य प्रायोजक के रूप में कर रहा हैं. बैंक ऑफ इंडिया और केजरीवाल इंस्टीच्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज सह प्रायोजक है. इस दौरान सभी जोड़ों को शादी के जोड़ा के साथ एक बक्सा, गद्दा, किचन के सारे सामान सहित आयोजन में होने वाले सभी खर्च की जिम्मेवारी इनकी ही होगी.

इसे भी पढ़ेंः बोकारो में सरकारी अस्पताल के नाम पर 3.5 करोड़ का घपला, ठेकेदार ने निकाले 1.30 करोड़, एई ने निकाले 2.20 करोड़

इसे भी पढ़ेंः क्या हजारीबाग पुलिस-प्रशासन एनटीपीसी के पक्ष में और विधायक व ग्रामीणों के खिलाफ पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर काम कर रही थी !

2016 में 21 जोड़ों की करवायी थी शादी

जेएसएलपीएस ने इससे पहले 2016 में निमित्त के साथ मिलकर खूंटी जिला में 21 ऐसे ही जोड़ों की शादी करा चुका है. इस आयोजन की मुख्य कार्यकर्ता निमित्त की सचिव निकिता सहाय बताती हैं कि अभी भी कई ऐसे जोड़े हैं जो सिर्फ पैसे के अभाव में शादी नहीं कर पा रहे हैं. इनकी शादी को मान्यता तब ही मिल पाती है जब ये अपने पूरे गांव को भोज देना पड़ता है, जिसके लिए इनके पास पैसे नहीं होते.

जेएसएलपीएस रखेगा इनकी आजीविका का ख्याल 

शादी के बाद ये पूरी तरह से मुख्यधारा से जुड़े रहे, इसके लिए आजीविका मिशन के तहत इन्हें ट्रेनिंग देकर इनको रोजगार से जोड़ेंगे. जेएसएलपीएस के कम्युनिकेशन मैनेजर विकाश कुमार ने बताया कि हमारे इस आयोजन से जुड़ने का मतलब ही इनको ट्रेनिंग देकर रोजगार से जोड़ना है 

इसे भी पढ़ें- यह लड़का शौक से नहीं, पेट की खातिर दौड़ता है बिजली के तार पर (देखें वीडियो...)

नहीं मिल पता है योजनाओं का लाभ 

ऐसे साथ रह रहे जोड़ों को सरकार द्वारा चलाये जा रहे कई लाभकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पता है. इनके साथ-साथ इनके बच्चों को भी आगे भविष्य में माता-पिता का वैध रूप से नाम नहीं मिल पाने के कारण समस्याएं सामने आती है. 

मृत्यु के बाद दफनाने के लिए गांव में नहीं मिलती है जमीन 

ऐसी कई सारी परम्पराएं है, जिनकी वजह से शादी करना इनकी अनिवार्यता है, पर गरीबी इनके लिए रोड़ा बनी हुई थी. शादी नहीं होने के कारण मरने के बाद इनको गांव में दफ़नाने के लिए जगह नहीं दी जाती है. साथ ही जब तक माता पिता शादी शुदा नहीं होते लड़कियों के कान छेदन की रश्म नहीं की जा सकती है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

एसपी जया राय ने रंजीत मंडल से कहा था – तुम्हें बच्चे की कसम, बदल दो बयान, कह दो महिला सिपाही पिंकी है चोर

बीजेपी पर बरसे यशवंतः कश्मीर मुद्दे से सांप्रदायिकता फैलायेगी भाजपा, वोटों का होगा धुव्रीकरण

अमरनाथ यात्रा पर फिदायीन हमले का खतरा, NSG कमांडो होंगे तैनात

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन

दुनिया को 'रोग से निरोग' की राह दिखा रहा योग: मोदी

स्मार्ट मीटर खरीद के टेंडर को लेकर जेबीवीएनएल चेयरमैन से शिकायत, 40 फीसदी के बदले 700 फीसदी टेंडर वैल्यू तय किया

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच