देश की ये मनमोहक गुफाएं आपको रहस्यमय संसार की करायेंगी सैर

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 03/15/2018 - 16:15

Nw desk :  पूरी दुनिया में भारत को रहस्यमय देश माना जाता है. इसके कारण भी हैं. देश में मौजूद सैकड़ों गुफाएं इन रहस्यों से परदा उठाती हैं. ये गुफाएं हजारों साल पुरानी हैं. प्राचीन होने के साथ-साथ धार्मिक मान्यता से जुड़ी गुफाएं सैलानियों में कौतुहल पैदा करती हैं. इन गुफाओं में मौजूद मंदिर आपको अलग-अलग शताब्दियों की कला के दर्शन कराते हैं. यहां कई गुफाओं के बारे में बताया जा रहा है. इनमें जम्मू-कश्मीर की अमरनाथ गुफा, तमिलनाडु की वराह गुफा, महाराष्ट्र की एलीफेंटा व अजंता-एलोरा की गुफाएंकर्नाटक की बादामी गुफाएं, राजस्थान के अरावली में परशुराम महादेव गुफा, छत्तीसगढ़ की सीताबेंग-जोगीमारा गुफा सहित अन्य गुफाएं शामिल हैं.

अमरनाथ की गुफा में भगवान शिव ने देवी पार्वती को सुनायी थी अमरकथा

AMARNATH
अमरनाथ की गुफा

अमरनाथ की गुफा हिंदू धार्मिक मान्यताओं में सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है. यह खास तीर्थ स्थल  है. मान्यता है कि यहीं पर भगवान शिव ने देवी पार्वती को अमरकथा सुनायी थी.  हजारों वर्ष पुरानी इस गुफा में आज भी बर्फ का प्राकृतिक शिवलिंग निर्मित होता हैजिसके दर्शन के लिए हर साल लाखों भक्त यहां जाते हैं. इसके अलावा वराह गुफा चैन्नई के महाबलीपुरम में स्थित है. इस गुफा में भगवान विष्णु का मंदिर है.  इसे यूनेस्को ने विश्व विरासत की मान्यता दी है. वराह गुफा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है.

इसे भी पढ़ें - सीएम को शिकायत सहित भेजा 10 लाख का चेक : शिकायतकर्ता की चुनौती-बात झूठ निकले तो रख लें पूरी राशि

एलीफेंटा की गुफाएं बनायी गयी हैं पहाड़ों को काटकर  

एलीफेंटा की गुफाएं
एलीफेंटा की गुफाएं

 मुंबई के गेट वे ऑफ इंडिया से लगभग 12 किलोमीटर दूर एलीफेंटा की गुफाएं हैं.  यह गुफा यहां के पहाड़ों को काटकर बनायी गयी हैं.  यहां लगभग सात गुफाएं हैं, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण है महेश मूर्ति गुफा.  इस गुफा में अर्द्धनारीश्वहर, भगवान शिव, रावण द्वारा कैलाश पर्वत को ले जाते हुए और नटराज शिव की उल्लेनखनीय कृतियां दर्शायी गयी हैं.  इन गुफाओं को भी यूनेस्कों द्वारा विश्व विरासत का दर्जा दिया गया है. अजंता-एलोरा की गुफाएं महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है,  इसमें अजंता में 29 बौद्ध गुफाएं और कई हिंदू मंदिर भी मौजूद हैं,  ये गुफाएं अपनी चित्रकारी और अद्भुत मंदिरों के लिए प्रसिद्ध हैं. 

इसे भी पढ़ें - उज्‍जवला योजना : 45 दिनों 15 लाख लाभुकों को गैस कनेक्‍शन, 2 महीने में 312 नये एलपीजी डीलर का लक्ष्‍य -रघुवर दास   

मंदिर में स्वयंभू शिवलिंग है

परशुराम महादेव गुफा
परशुराम महादेव गुफा

राजस्थान के अरावली में स्थित प्राचीन गुफा मंदिर को परशुराम महादेव गुफा मंदिर कहा जाता है.  माना जाता है कि इसका निर्माण विष्णु के अवतार भगवान परशुराम ने अपने फरसे से चट्टान को काटकर किया था. इस गुफा मंदिर के अंदर एक स्वयंभू शिवलिंग है,  कहते हैं कि यहां परशुराम ने घोर तपस्या की थी और  तपस्या के बल पर ही उन्होंने भगवान शिव से धनुष और दिव्य फरसा प्राप्त किया था. 

कर्नाटक की बादामी गुफाएं हैं नक्काशीदार

कर्नाटक की बादामी गुफाएं
कर्नाटक की बादामी गुफाएं

कर्नाटक की बादामी गुफाएं जो सुंदर और नक्काशीदार हैं. ये गुफा कर्नाटक के बादामी नामक क्षेत्र में स्थित है. बादामी की चार गुफाओं में से दो गुफाएं भगवान विष्णु , एक भगवान शिव और एक जैन धर्म से संबंधित है.  पहाड़ों को काटकर लाल पत्थर से बनायी गयी ये गुफाएं अपनी सुंदरता के लिए चर्चित हैं. इसी क्रम में छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले की रामगढ़ पहाड़ियों में सीताबेंग और जोगीमारा दो गुफाएं हैं. कांगड़ वैली के नेशनल पार्क के पास स्थित इन गुफाओं तक पहुंचने के लिए आपको प्राकृतिक टनल के रास्ते से जाना होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...