दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर पर आज ही के दिन पहुंची थीं बछेंद्री पाल

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/22/2018 - 11:05

New Delhi : इतिहास में आज के दिन बहुत सी महत्वपूर्ण घटनाएं दर्ज हैं. भारत की बछेन्द्री पाल आज ही के दिन दुनिया की सबसे ऊंचे पर्वत शिखर पर पहुंची थीं और यह कारनामा अंजाम देने वाली वह देश की पहली महिला पर्वतारोही हैंबछेंद्री खेतिहर परिवार में जन्मी थीं और उन्होंने बी.एड. तक की पढ़ाई पूरी की. बचपन से मेधावी और प्रतिभाशाली होने के बावजूद उन्हें कोई अच्छा रोज़गार नहीं मिला और मिला भी तो वह जो मिला भी वह अस्थायी और  जूनियर स्तर का था. उस नौकरी में वेतन भी बहुत कम था. इससे बछेंद्री काफी निराश हुई और उन्होंने नौकरी करने के बजाय 'नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग' कोर्स के लिये आवेदन कर दिया. इससे बछेंद्री के करियर को एक नया रास्ता मिल गया. उन्होंने 1982 में एडवांस कैम्प के तौर पर उन्होंने  गंगोत्री (6,672 मीटर) और रूदुगैरा (5,819) की चढ़ाई को पूरा किया. इस कैम्प में बछेंद्री को ब्रिगेडियर ज्ञान सिंह ने बतौर इंस्ट्रक्टर पहली नौकरी दी. हालांकि पेशेवर पर्वतारोही  का पेशा अपनाने की वजह से उन्हे परिवार और रिश्तेदारों के विरोध का सामना भी करना पड़ा.

इसे भी पढ़ें - भीख मांगकर करती रही गुजारा, मरने के बाद उसके पास मिले सात करोड़

1984 में भारत का चौथा एवरेस्ट अभियान शुरू हुआ. इस अभियान में जो टीम बनी, उसमें बछेंद्री समेत 7 महिलाओं और 11 पुरुषों को शामिल किया गया था. वहीं इस टीम के द्वारा 23 मई 1984 को दोपहर 1 बजकर सात मिनट पर 29,028 फुट (8,848 मीटर) की ऊंचाई पर सागरमाथा (एवरेस्ट) पर भारत का झंडा लहराया गया था.

ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार आज वर्ष का 142 वां दिन है और अब इस साल में 223 दिन शेष हैं.

इसे भी पढ़ें - ISIS के खिलाफ लड़ाई की निगरानी कर रहा अमेरिकी कार्यालय दिसंबर तक करेगा काम

आज के दिन की कुछ अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का ब्यौरा इस प्रकार है

- 1915 : प्रथम विश्व युद्ध के दौरान इटली ने आस्ट्रिया, हंगरी तथा जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की.

1972 : पाकिस्तान द्वारा राष्ट्रमंडल की सदस्यता से त्यागपत्र.

1984 : बछेन्द्री पाल दुनिया की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट को फतह करने वाली पहली भारतीय महिला बनी.

1990 : उत्तरी एवं दक्षिणी यमन के विलय के साथ संयुक्त यमन गणराज्य का उदय.

2001 : दलाई लामा ने तिब्बत की आज़ादी की मांग छोड़ी.

2002 : नेपाल में संसद भंग.

2003 : अल्जीरिया में आये विनाशकारी भूकम्प में दो हज़ार से अधिक लोग मारे गये.

2008 : संयुक्त राष्ट्र संघ की 47 सदस्यीय मानवाधिकार समिति में पाकिस्तान को शामिल किया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

top story (position)
ok
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा

नोटबंदी के दौरान अमित शाह के बैंक ने देश भर के तमाम जिला सहकारी बैंक के मुकाबले सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट एकत्र किए: आरटीआई जवाब

एसपी जया राय ने रंजीत मंडल से कहा था – तुम्हें बच्चे की कसम, बदल दो बयान, कह दो महिला सिपाही पिंकी है चोर

बीजेपी पर बरसे यशवंतः कश्मीर मुद्दे से सांप्रदायिकता फैलायेगी भाजपा, वोटों का होगा धुव्रीकरण

अमरनाथ यात्रा पर फिदायीन हमले का खतरा, NSG कमांडो होंगे तैनात

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन

दुनिया को 'रोग से निरोग' की राह दिखा रहा योग: मोदी