झारखंड का एक मात्र जिला जहां सब्जियों के दाम बिकता है काजू

Submitted by NEWSWING on Sun, 01/14/2018 - 17:54

Jamtara : जब बात ड्राई फ्रूट्स की हो तो जेहन में सबसे पहले काजू का नाम आता है. साथ ही इसकी कीमत भी दिमाग में घूमने लगती है. बाजार में 600 रूपए से 800 रूपए प्रति किलोग्राम की दर पर बिकने वाला काजू जामताड़ा में सिर्फ 20-30 रूपए किलो बिकता है. यूं कहें तो साग के भाव में यहां काजू की बिक्री होती है. जिला प्रशासन की ओर से नाला स्थित बगान के पास काजू के प्रोसेसिंग प्लांट लगाने का प्रयास आरंभ किया गया है लेकिन सरकारी प्रक्रिया में अभी मामला लटका हुआ है. नाला में 49 एकड़ जमीन में काजू का बगान है. यह बगान ब्लॉक मुख्यालय से 4 किमी की दूरी पर डाड़र केवलजोरिया से भंडारकोल तक करीब 5 किलोमीटर में फैला है.

इसे भी पढ़ें :  “रूठे-रूठे उरांव” सरकार की सिरदर्दी “मनाऊं कैसे...”

प्रति वर्ष हजारों क्विंटल फलता है काजू, देख रेख का है अभाव

बगान में प्रतिवर्ष हजारों क्विंटल काजू फलता है, लेकिन देखरेख के अभाव में स्थानीय लोगों और राहगीरों का निवाला बन जाता है. आस-पास की महिलाएं और बच्चे कच्चे काजू फल को तोड़कर आलू-प्याज से भी सस्ता 20 से 30 रुपये किलो की दर से बेच लेते हैं. न कोई इन्हें रोकने वाला है और न इसके लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था की जा सकी है.

इसे भी पढ़ें: रंधीर सिंह के बिगड़े बोल, बीजेपी से मतलब नहीं, पार्टी हमें तेल लगायेगी

प्रोसेसिंग प्लांट लगाने का जारी है प्रयास

नाला के चर्चित काजू बगान के पास प्रोसेसिंग प्लांट लगाया जाएगा. इसके लिए सरकार की ओर से दस लाख रुपए आवंटित किये गये हैं. यह राशि अनटायर्ड फंड (अनावद्य निधि) से दी गयी है. विदित हो कि जिले के नाला प्रखंड के डाडर में काजू का बगान है, जिसमें काफी मात्रा में काजू की उपज होती है. परंतु प्रोसेसिंग प्लांट नहीं रहने के कारण वहां के काजू काफी हद तक बर्बाद हो जाते हैं. स्थानीय लोग वहां के काजू को औने-पौने दाम में बेच देते हैं. यही कारण है कि लोग काजू प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की मांग कर रहे थे. इसी वित्तीय वर्ष में प्रोसेसिंग प्लांट लगाकर काजू को बर्बाद होने से बचाने का आश्वासन जिला प्रशासन की ओर से दिया गया था.

इसे भी पढ़ें: झारखंड के शीर्ष दो अफसरों पर संगीन आरोप, विपक्ष कर रहा कार्रवाई की मांग, सरकार की हो रही फजीहत, रघुवर चुप

सरकार को मिलता है राजस्व, बगान की होती है नीलामी, बावजूद सरकारी स्तर से हो रही है अनदेखी

नाला काजू बगान से सरकार को हर तीन वर्ष पर अच्छा-खासा राजस्व मिलता है. पिछले वर्ष भी तीन साल के लिए तीन लाख रुपए में डाक हुआ है. स्थानीय लोगों की मानें तो अगर यहां प्रोसेसिंग प्लांट लग जाएगा तो सरकार के राजस्व में और वृद्धि होगी. वहीं स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा. विदित हो कि सरकार द्वारा ध्यान नहीं दिये जाने के कारण अधिकांश काजू के पेड़ बर्बाद हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः रघुवर दास सीएस राजबाला वर्मा पर एहसान नहीं कर रहे, बल्कि एहसान का बदला चुका रहे हैं : विपक्ष

डीसी स्तर से सरकार को किया गया है पत्राचार

उपायुक्त द्वारा सरकार से पत्राचार किया गया था ताकि काजू बगान का विकास किया जा सके. इसके लिए अनटायर्ड फंड से दस लाख रुपए प्रोसेसिंग प्लांट लगाने का निर्देश दिया गया है. यही नहीं डीसी ने कई बार उक्त क्षेत्र का दौरा कर बीडीओ को निर्देश दिया है कि जल्द से जल्द प्रोसेसिंग प्लांट लगाने के लिए जगह चिन्हित कर आवश्यक कार्यवाही की जाए. साथ ही स्वयं सहायता समूह के माध्यम से प्लांट का संचालन कराए जाने की भी बात कही.

लगेंगे पांच हजार नये काजू के पौधे

जानकारी के अनुसार काजू बगान को और बढ़ाने के लिए पांच हजार नये काजू के पौधे लगाये जाने का निर्णय लिया गया है. वन विभाग द्वारा यहां पौधरोपण का कार्य किया जाएगा. इस संदर्भ में डीसी रमेश कुमार दूबे ने संबंधित विभाग को निर्देश भी दिये हैं.

Kaju Bagan
Kaju Bagan

इसे भी पढ़ेंः डीजीपी डीके पांडेय ने एडीजी एमवी राव से कहा था कोर्ट के आदेश की परवाह मत करो !

1994 में लगाये गये थे काजू बगान

वर्तमान डीसी शहर तत्कालिक सीओ रमेश कुमार दूबे के समय में बागवानी की कवायद की गयी थी. अब नाला क्षेत्र का यह काजू बगान जामताड़ा जिला के लिए अनमोल धरोहर बन चुका है.  वर्तमान समय में लगभग 20 हजार पेड़ में काजू फलता है. इसके बीज को वैज्ञानिक विधि से निकालने से काफी कारगार होगा.

प्रोसेसिंग प्लांट लगाने से यह होगा फायदा

स्थानीय व्यवसायी बीरेंद्र बर्णवाल की मानें तो प्रोसेसिंग प्लांट लगने से स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिलेगा. वहीं काजू की अच्छी कीमत भी मिलेगी. साथ ही स्थानीय स्तर पर कारोबार में भी तेजी आने के साथ बाजार मूल्य भी नियंत्रित होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
Top Story
loading...
Loading...