सिगार के आकार के अंतरा तारकीय क्षुद्रग्रह का अतीत रहा है मुश्किलों भरा

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 02/13/2018 - 16:37

London : हमारे सौरमंडल की यात्रा करने वाली पहली ज्ञात वस्तु का अतीत बहुत मुश्किल भरा रहा है और इसी कारण यह अव्यवस्थित ढंग से इधर-उधर उठती-गिरती रही है. यह बात एक अध्ययन में कही गयी है। इस वस्तु ने अक्टूबर में हमारे सौरमंडल के बीच से उड़ान भरी, जिसे पहले एक पुच्छल तारा माना गया, लेकिन बाद में खुलासा हुआ कि यह सिगार के आकार का क्षुद्रग्रह था.

इसे भी पढ़ेंः रघुवर सरकार ने माओवादी व टीपीसी को धन मुहैया कराने वाले रघुराम रेड्डी के खिलाफ नहीं की कार्रवाई

क्वीन्स यूनिवर्सिटी इसकी चमक का कर रही विश्लेषण

क्वीन्स यूनिवर्सिटी बेलफास्ट में अनुसंधानकर्ता अक्तूबर से इसकी चमक का विश्लेषण कर रहे हैं। उन्होंने पाया कि ओउमुआमुआनाम का यह क्षुद्रग्रह जब-तब चक्कर नहीं लगाता जैसा कि हम अपने सौरमंडल में ज्यादातर छोटे क्षुद्रग्रहों और वस्तुओं के बारे में देखते हैं. इसकी बजाय यह संभवत: अरबों साल से अव्यवस्थित ढंग से उठ-गिर रहा है तथा चक्कर लगा रहा है. हालांकि इसके सटीक कारण के बारे में कहना मुश्किल है, लेकिन ऐसा माना जाता है कि ओउमुआमुआअपने खुद के परिवेश से बाहर अंतरा तारकीय अंतरिक्ष में फेंके जाने से पहले एक अन्य क्षुद्रग्रह से टकराया होगा.

इसे भी पढ़ेंः चतरा : उग्रवादी संगठन टीपीसी को मदद करने वाले दर्जन भर कारोबारी पर प्राथमिकी, कोयला कारोबारियों में हड़कंप

वैज्ञानिक इसके रंगों को लेकर अबतक कर रहे माथापच्ची

वैज्ञानिक अब तक इसके विभिन्न हिस्सों पर इसके रंग में भिन्नता को लेकर माथापच्ची कर रहे हैं. हालांकि अध्ययन में अब खुलासा हुआ है कि इसकी सतह चितकबरी और धरती पर स्थापित दूरबीन की कैद में आया इसका लंबा अग्रिम भाग लाल है. इसका शेष हिस्सा मैली बर्फ जैसे तटस्थ रंग का है.

इसे भी पढ़ें - क्या रांची पुलिस ने डीजीपी डीके पांडेय व अन्य अफसरों को बचाने के लिए 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने वाले केस की फाइल बंद कर दी !

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...

NEWSWING VIDEO PLAYLIST (YOUTUBE VIDEO CHANNEL)