सोनथालिया सबसे अमीर राज्यसभा सांसद के उम्मीदवार, समीर सबसे गरीब

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 19:08

Ranchi :  दो राज्यसभा की सीट के लिए सोमवार को तीन उम्मीदवारों ने नामंकन भरा. तीसरे उम्मीदवार के मैदान में उतरने से चुनाव का रोमांच सर चढ़ कर बोल रहा है. बीजेपी ने दो उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है तो झामुमो का समर्थन पाए कांग्रेस ने एक उम्मीदवार को मैदान में उतारा है. दोनों पार्टी दावा कर रहे हैं कि उनका उम्मीदवार जीतेगा. वहीं दूसरी तरफ चुनाव की राजनीति में बयानबाजी शुरू है. विक्टरी की साइन हर विधायक कैमरे के सामने लहरा रहा है. इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि पार्टियां वो हर पैतरा खेलेगी जिससे जीत तय हो. खैर, जो हल्फनामा तीनों उम्मीदवारों ने विधानसभा में जमा किया है, उसमें सबसे अमीर उम्मीदवार प्रदीप सोनथालिया हैं. वहीं सबसे गरीब समीर उरांव.

इसे भी पढ़ें - राज्यसभा के 'रण' का महारथी कौन ? चुनावी गणित का इशारा : फायदे में होकर भी बहुमत से दूर रहेगी बीजेपी

इसे भी पढ़ें - राज्यसभा के लिए कांग्रेस को मिला जेएमएम का साथ : हेमंत के नेतृत्व मे लड़ा जायेगा विधानसभा चुनाव

सोनथालिया की संपत्ति करीब 10 करोड़ धीरज साहू से ज्यादा

कारोबारी प्रदीप सोनथालिया की पूरी संपत्ति की बात करें तो वो 38,87,13,743 रुपए की है. वहीं धीरज साहू की बात करें तो उनकी पूरी संपत्ति 28,64,61,110 है. जो हल्फनामा विधानसभा में दायर किया गया है, उसमें धीरज साहू की सालाना आय 10,47,454 रुपए है. जो कुल संपत्ति में नहीं जोड़ी गयी है. वहीं प्रदीप सोनथालिया की सालाना आय की जानकारी एनेस्चर के जरिए विधानसभा को दी गयी. मीडिया को इसकी जानकारी नहीं है. ऐसे में प्रदीप सोनथालिया की सालाना आय को उनकी कुल संपत्ति में नहीं जोड़ा गया है. तीनों उम्मीदवारों में समीर उरांव सबसे गरीब हैं. उनकी कुल संपत्ति की बात की जाए तो 78,90,871 रुपए की है.

इसे भी पढ़ें - धीरज साहू ने किया सबको हैरान, कांग्रेस की लिस्ट जारी होने से पहले राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र लेने के मायने !

 इसे भी पढ़ें - न्यूज विंग की खबर सच निकली, धीरज साहू ने कहा- छुट्टी की वजह से मंगवाया था नामांकन का सैंपल पेपर, जब तक पार्टी नहीं कहेगी तब तक नहीं हूं उम्मीदवार

सोनथालिया ही सबसे ज्यादा कर्ज में दबे

आमदनी और संपत्ति के मुताबिक सोनथालिया कर्ज में भी सबसे पहले पायदान पर हैं. कुल कर्ज की बात की जाए तो सोनथालिया पर 19,80,48,062 रुपए का कर्ज है. वहीं धीरज साहू पर सिर्फ 2,36,51,927 रुपए का कर्ज है. समीर उरांव आमदनी और दौलत के मुताबिक सबसे कम कर्ज के बोझ के तले दबे हैं. उनकी कुल देनदारी 4,57,683 रुपए की है.

अंकगणित के मुताबिक हमारी जीत सुनिश्चितः सीएम

नामंकन प्रक्रिया के दौरान विधानसभा पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि विपक्ष जितना भी जोर लगा ले हमारी जीत निश्चित है. सारे गणित के आंकड़े समझने के बाद ही बीजेपी ने उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. समीर उरांव प्रदेश उपाध्यक्ष के अलावा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रभारी भी हैं. वहीं हमारे दूसरे उम्मीदवार प्रदीप सोनथालिया बीजेपी के कार्यकर्ता हैं. इन दोनों उम्मीदवारों का जीतना निश्चित है.

बीजेपी फिर राज्य का नाम खराब करेगीः हेमंत

नामांकन प्रक्रिया के दौरान विधानसभा में मौजूद नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि हर बार की तरह इस बार भी बीजेपी राज्यसभा चुनाव में राज्य का नाम खराब करेगी. जब दो सीट राज्यसभा के हैं तो तीन उम्मीदवार का मैदान में उतारने का क्या मतलब है. आखिर क्यों तीसरा उम्मीदवार उतारा जा रहा है. रही बात खतरे की तो हमारे गठबंधन के उम्मीदवार को किसी से कोई खतरा नहीं है. जीत के आंकड़े हमारे पास हैं. हमारी जीत निश्चित है.

कोई भी अनएथिकल काम नहीं करूंगाः सोनथालिया

बीजेपी की तरफ से राज्यसभा के दूसरे उम्मीदवार ने मीडिया के सामने अपनी बात काफी बेबाकी से रखी. हालांकि यह शायद उनके लिए पहला मौका था जब पत्रकारों के बीच वो इस कदर घिरे थे. उनके चेहरे का भाव और कैमरा अनफ्रेंडली वर्ताव को देख कर साफ समझा जा सकता था कि वो पहली बार इस तरीके से पत्रकारों के बीच घिरे हैं. मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी पार्टी का आदेश था तो मैं चुनाव मैदान में हूं. बीजेपी विश्व की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी है. उसके पास करीब 47 अपने विधायक हैं. ऐसे में जीत का आंकड़ा पा लेने में मुश्किल नहीं आएगी. कहा कि मैं एक व्यवसायी हूं. और अच्छी नीति के साथ व्यवसाय करने का ही नतीजा है कि मैं यहां हूं. इस चुनाव में किसी तरह का कोई अनएथिकल काम नहीं होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.