वैज्ञानिकों ने खोज निकाला बुढ़ापे में कमजोर पड़ती मांसपेशियों को जवान करने का राज

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 15:56

London : वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगा लिया है कि बुढ़ापे में लोगों की मांसपेशियां क्यों कमजोर होने लगती हैं. ऐसी संभावना है कि इस खोज से भविष्य में इसका इलाज संभव हो सकेगा. जैसे- जैसे लोग बुढ़ापे की तरफ बढ़ते जाते हैं, उनकी मांसपेशियां तेजी से छोटी और कमजोर पड़ती जाती हैं. जिससे कमजोरी और अक्षमता बढ़ती जाती है.

इसे भी पढ़ें -निएंडरथल मानव असभ्य और असंस्कृत नहीं थे

लंबे समय तक जीने वाले हर व्यक्ति को इस प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है. हालांकि अब तक इस प्रक्रिया को बेहतर तरीके से समझा नहीं जा सका था.जर्नल ऑफ फिजियोलॉजीमें प्रकाशित अनुसंधान से पता चला है कि, तंत्रिका तंत्र में बदलाव होने की वजह से मांसपेशियां कमजोर होती जाती हैं.

ब्रिटेन की मैनचेस्टर मेट्रोपोलिटन यूनिवर्सिटी और द यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के साथ ही कनाडा के यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू के अनुसंधानकर्ताओं ने मांसपेशी उत्तक के बारे में विस्तृत जानकारी हासिल करने के लिए एमआरआई का इस्तेमाल किया. 75 साल की उम्र तक पैरों को नियंत्रित करने वाला तंत्रिका तंत्र30 से50 फीसदी तक कमजोर हो जाता है. इससे मांसपेशियों के कुछ हिस्से का संपर्क तंत्रिका तंत्र से टूट जाता है. इस प्रक्रिया में मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप

बॉडी गार्ड की चाहत में जिप अध्यक्ष ने खुद पर करवायी फायरिंग, पकड़े गए अपराधियों ने किया खुलासा

गोड्डा मॉब लिंचिंग : सांसद निशिकांत ने कहा प्रशासन ने सही किया या गलत पता नहीं, लेकिन केस लड़ने के लिए आरोपियों की करेंगे मदद

समय पर बिजली बिल नहीं मिला तो लगेगा 420 वोल्ट का झटका, जेबीवीएनएल को नहीं कोई फिकर

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन पर मानवाधिकार परिषद लेगी फैसला : यूएन 

शुजात बुखारी को उनके पैतृक गांव में दफनाया गया, जनाजा में बड़ी संख्या में उमड़ी थी भीड़