साहित्य अकादमी पुरस्कार : हिंदी के मेघ, उर्दू के एहसास समेत 24 लेखक होंगे सम्मानित

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 12/21/2017 - 18:00

New Delhi : विविधता भरे भारत के बहुल भाषी साहित्य को राष्ट्रीय चेहरा प्रदान करने वाली संस्था साहित्य अकादमी ने आज गुरुवार को हिंदी में रमेश कुंतल मेघ की ‘विश्वमिथकसरित्सागर’ और उर्दू के बेग एहसास की ‘दख़मा’ सहित 24 भाषाओं की कृतियों को पुरस्कार के लिए चुना. साहित्य अकादमी के सचिव डॉ. के. श्रीनिवास राव ने यहां एक प्रेसवार्ता में 24 भाषाओं में साहित्य अकादमी और वार्षिक अनुवाद पुरस्कारों की घोषणा की.

पुरस्कारों के लिए कई नामों को मिली सहमति

राव ने बताया कि साहित्य अकादमी के अध्यक्ष प्रो. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की अध्यक्षता में हुई अकादमी के कार्यकारी मंडल की बैठक में पुरस्कारों के लिए नामों का चयन किया गया, उन्होंने कहा कि इन सभी रचनाओं का चयन अकादमी के नियमानुसार गठित संबंधित भाषाओं की तीन सदस्यीय निर्णायक समितियों की संस्तुतियों के आधार पर किया गया है.

इसे भी पढ़ें-बरी हो गये देश के सबसे बड़े घोटाले 2जी स्कैम के सभी 19 आरोपी, कोर्ट ने कहा घोटाला हुआ ही नहीं

हिंदी के लिए मेघ व उर्दू के एहसास हुए सम्मानित

इस वर्ष रमेश कुंतल मेघ की ‘विश्वमिथकसरित्सागर’ को हिंदी का साहित्य पुरस्कार प्रदान किया गया है. उनकी इस पुस्तक में वास्तुशास्त्र, समाजशास्त्र, सौन्दर्यबोधशास्त्र, समाजविज्ञानों के हाशियों पर भी मिथकों के नाना ‘पाठरूपों’ (भरतपाठ से लेकर उत्तर-आधुनिक पाठ) तथा ‘सामाजिक पंचांगों’ के बारे में चर्चा की गई है। इसमें विश्व के लगभग 35 देशों की मिथक-गाथा, विश्व धरोहर की 9 संस्कृतियों की मिथक-चित्र-आलेखकारी, विश्व के मिथक-भौगोलिक मानचित्रों का लेखा-जोखा और दुर्लभ चित्रफलकों की कूची से उकेरती विश्वमिथक गाथाओं को शामिल किया गया है. वहीं उर्दू में यह पुरस्कार बेग एहसास के कहानी संग्रह ‘दख़मा’ को प्रदान किया गया है.

इसे भी पढ़ें- JMM का खुलासाः गृह मंत्रालय ने रघुवर सरकार को वापस किया भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल 2017, हेमंत बोले- CM को एक क्षण भी पद पर रहने का नैतिक अधिकार नहीं

24 भाषाओं में दिए गए पुरस्कार

चौबीस भाषाओं में दिए जाने वाले इन पुरस्कारों में सात उपन्यास, पांच काव्य संग्रह, पांच कहानी संग्रह, पांच समालोचना, एक नाटक और एक निबंध को पुरस्कृत किया गया है. अंग्रेजी भाषा में यह पुरस्कार ममंग दई के उपन्याय ‘द ब्लैक हिल’, असमिया में जयंत माधव बरा के उपन्यास ‘मरियाहोला’, बांग्ला में आफसार आमेद के उपन्यास ‘सेइ निथोंज मानुषटा’ और तमिल में इंकलाब की कविता ‘कानधल नाटकल’ को प्रदान किया गया. इसके अलावा बोडो, डोगरी, गुजराती, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी, नेपाली, ओड़िया, पंजाबी, राजस्थानी, संस्कृत, संथाली, सिंधी एवं तेलुगू भाषा में भी यह पुरस्कार प्रदान किया गया.

इसे भी पढ़ें- बोकारो में बोले रघुवर : विकास के मामले में झारखंड विकसित देशों के बराबर खड़ा होगा

वार्षिक अनुवाद पुरस्कारों की भी हुयी घोषणा

राव ने इसी के साथ वार्षिक अनुवाद पुरस्कारों की भी घोषणा की. इसके तहत बांग्ला में लिखी शंभु मित्र की ‘अभिनय नाटक मंच’ के इसी नाम से किए गए हिंदी अनुवाद के लिए प्रतिभा अग्रवाल को पुरस्कृत किया गया. वहीं महाकवि कालिदास की संस्कृत में रचित ‘मेघदूत’ के उर्दू तर्जुमा ‘कालिदास की अजीम शायरी-मेघदूत (खंड-1)’ के लिए महमूद अहमद सहर को यह पुरस्कार दिया गया. अनुवाद श्रेणी में भी अन्य सभी भाषाओं में पुरस्कार की घोषणा की गई.

साहित्य अकादमी पुरस्कारों का वितरण अगले साल 12 फरवरी को वार्षिक साहित्योत्सव के दौरान किया जाएगा, जबकि अनुवाद पुरस्कारों को अगले साल जुलाई-अगस्त में प्रदान किया जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.