प्रशासन के सख्त तेवर ने संभाला रांची का माहौल, रैली को लेकर सीएम भी नाराज

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 06/13/2018 - 10:16

Ranchi: राजधानी सहित राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में सांप्रदायिक तनाव के छिटपुट मामले सामने आ रहे हैं.  ऐसे मामलों में प्रशासन के सख्त और निष्पक्ष रवैये के कारण स्थिति नियंत्रण में दिखती है. 10 जून की शाम रांची के मेन रोड में हंगामे के दौरान प्रशासन ने जरा भी नरमी बरती होती, तो बड़ा हादसा हो सकता था.

बताया जाता है कि रमजान के महीने में शाम के समय मेन रोड में लगे बाजार के बीच से बाइक रैली निकालने को लेकर भाजपा के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों में एक राय नहीं थी. अब इस विवाद के बाद कोई भी नेता इसका दायित्व लेने को तैयार नहीं. यहां तक कि मुख्यमंत्री रघुवर दास भी इस प्रकरण से नाखुश हैं. उन्होंने प्रशासन को ऐसे मामलों में निष्पक्ष और सख्त भूमिका निभाने का साफ निर्देश दे रखा है. 

यही कारण है कि 10 जून की शाम मेन रोड में हादसा टला. उस दौरान एक दारोगा के साथ मारपीट तथा उपद्रवियों की जांच के साथ यह भी पता लगाया जा रहा है कि मोदी सरकार की उपलब्धि गिनाने के नाम पर बाइक रैली के दौरान जानबूझकर भड़काऊ नारे लगाए गए अथवा नहीं. रैली की टाइमिंग को लेकर भी जांच हो रही है और उसकी  अनुमति पर भी. 

इस प्रकरण को लेकर भाजयुमो नेताओं का प्रतिनिधिमंडल 12 जून को मुख्यमंत्री से मिला. सूत्रों के मुताबिक इस दौरान रघुवर दास ने अपनी खिन्नता साफ तौर पर जाहिर कर दी. चर्चा है कि प्रतिनिधिमंडल को बैठने तक नहीं दिया गया और उनका मांगपत्र लेकर मुख्यमंत्री ने बिना कोई स्पष्ट आश्वासन दिए वापस लौटा दिया.

rakesh choudhdary
मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान भाजयुमो का प्रतिनिधि मंडल (तसवीर भाजयुमो नेता राकेश चौधरी के फेसबुक वॉल से साभार)

यही कारण है कि मुख्यमंत्री से मिलकर लौटने के बाद सोशल मीडिया में भाजयुमो कार्यकर्ताओं की हताशा सामने आ रही है. एक कार्यकर्ता ने तो फेसबुक पर लिख डाला कि भाजयुमो के सभी पदाधिकारियों को इस्तीफा दे देना चाहिए. एक कार्यकर्त्ता ने लिखा कि सीएम से मिलने गए भाजयुमो वालों की बॉडी लैंग्वेज से पता चलता है कि वे डरे हुए थे, जबकि सीएम अकड़ रहे थे.

सूत्रों के अनुसार प्रदेश भाजपा के कई पदाधिकारियों का मानना है कि राज्य में शांतिपूर्ण सरकार चलाने के लिए मुख़्यमंत्री के द्वारा प्रशासन को अपने विवेक और सख्ती से काम करने की छूट देना सही कदम है.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा

नोटबंदी के दौरान अमित शाह के बैंक ने देश भर के तमाम जिला सहकारी बैंक के मुकाबले सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट एकत्र किए: आरटीआई जवाब

एसपी जया राय ने रंजीत मंडल से कहा था – तुम्हें बच्चे की कसम, बदल दो बयान, कह दो महिला सिपाही पिंकी है चोर

बीजेपी पर बरसे यशवंतः कश्मीर मुद्दे से सांप्रदायिकता फैलायेगी भाजपा, वोटों का होगा धुव्रीकरण

अमरनाथ यात्रा पर फिदायीन हमले का खतरा, NSG कमांडो होंगे तैनात

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन