पीएनबी घोटाले को लेकर जेटली पर राहुल गांधी का बड़ा हमला : बेटी को बचाने के लिए चुप्पी साधने का लगाया आरोप

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 16:03

NEW DELHI:  पीएनबी घोटाले पर सदन के अंदर और बाहर विपक्ष द्वारा हो रही किरकिरी से पीछा छुड़ाना केंद्र सरकार और बीजेपी के लिए मुश्किल हो रहा है. आरोपियों के खिलाफ हो रही धुआंधार कार्रवाई के बावजूद सरकार और बीजेपी पर कांग्रेस के हमले जारी हैं. इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली पर पीएनबी घोटाले को लेकर बड़ा हमला बोल दिया. राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि वित्त मंत्री  अपनी वकील बेटी को बचाने के लिए चुप्पी साधे हुए हैं. उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी की सरकार चाहे इससे पल्‍ला झाड़ ले लेकिन सरकार अपनी जिम्‍मेदारियों से नहीं बच नहीं सकती. उन्‍होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक खबर को साझा करते हुए ट्वीट किया है कि पीएनपी घोटाले पर वित्तमंत्री अरुण जेटली की चुप्पी से साफ है कि वे अपनी वकील बेटी को बचाना चाह रहे हैं.

इसे भी देखें- आईएनएक्स मीडिया मामला में 24 मार्च तक की न्यायिक हिरासत में भेजे गये कार्ति चिदंबरम

क्या जेटली की बेटी को आरोपी ने दी थी बड़ी रकम ?
राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि  घोटाला सार्वजनिक होने से एक महीने पहले ही आरोपी ने वित्त मंत्री की बेटी को बड़ी रकम दी थी.  राहुल ने अपने ट्वीट में यह भी पूछा  है कि जब आरोपी से जुड़ी बाकी लॉ फर्म पर सीबीआई ने छापा मारा तब इस लॉ फर्म को क्यों छोड़ दिया गया ? लॉ फार्म अचानक छोड़ने से साफ है कि वित्त मंत्री की बेटी ने बड़ी रकम हासिल की है. अब उन्‍हें जांच के दायरे में लेने की जरूरत है.

इसे भी देखें- किसानों की मांग पर सरकार संवेदनशील: फडणवीस

महाघपला के पीछे मिलीभगत
गौरतलभ है कि पंजाब नेशनल बैंक और अन्य बैंकों के अधिकारियों से मिलीभगत कर कुछ बड़े कारोबारियों ने नियमों की अनदेखी कर बैंकों से लोन लिया और लोन के पैसे नहीं चुकाये. पीएनबी भी मानता है कि कुछ लोगों की मिलीभगत से कुछ खातेदारों को फायदा पहुंचाने के लिए ये घोटाला किया गया है.  इस मामले में 5 फरवरी को सीबीआई ने नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और एक व्यापारिक भागीदार के खिलाफ वर्ष 2017 में पीएनबी के साथ 280.70 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.