न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: नम आंखों से शहीद कुंदन को आखिरी सलाम, अंतिम विदाई में उमड़ा गांव

496

Palamu: तिरंगे में लिपटा शहीद कुंदन सिंह का पार्थिव शरीर, उनकी अंतिम यात्रा में उमड़ा पूरा गांव, हर कोई शहीद को अंतिम सलाम करने के लिए बेतबा दिखा, कुछ ऐसा था गुरुवार की सुबह पलामू के हुसैनाबाद के गमहरबिगहा गांव का नजारा. जहां हर आंख नम थी, लेकिन पलामू के लाल की शहादत पर गर्व भी था. मंगलवार को बूढ़ा पहाड़ पर नक्सलियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए पलामू के लाल कुंदन सिंह का गुरुवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया. इस दौरान पूरा गांव अपने वीर जवान को श्रद्धांजलि देने उमड़ पड़ा.  

 इसे भी पढ़ेंःलातेहारः अनजाने खौफ की जद में जवान सुबोध कुजूर का परिवार, खूंटी में ग्रामीणों ने किया है अगवा

अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब 

हुसैनाबाद के कामगारपुर पंचायत के गमहरबिगहा निवासी और झारखंड जगुआर के एसाल्ट 40 के जवान कुंदन कुमार सिंह का पार्थिव शरीर बुधवार रात उसके पैतृक गांव पहुंचा. शव के अंतिम दर्शन के लिए रात से ही लोग गमहरबिगहा पहुंचने लगे थे. सुबह तक लोगों का आना-जाना लगा रहा. वही गुरुवार सुबह करीब नौ बजे कुंदन की अंतिम यात्रा निकाली गयी.  जिसमें पूर्व मंत्री कमलेश कुमार सिंह, पूर्व विधायक संजय कुमार सिंह यादव, भाजपा के वरिष्ठ नेता कामेश्वर कुशवाहा, हुसैनाबाद नगर पंचायत अध्यक्ष शशि कुमार, पूर्व अध्यक्ष रामेश्वर राम, हुसैनाबाद एसडीपीओ मनोज कुमार महतो, थाना प्रभारी रासबिहारी लाल के अलावा सैकड़ों ने भाग लिया.

राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

गांव के शमसान घाट पर शहीद कुंदन का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. इससे पहले हुसैनाबाद पुलिस ने शहीद को आखिरी सलामी दी. जवानों ने अपने शस्त्र झुकाए और बैंड के धुन पर श्रद्धांजलि दी. बाद में घाट पर पहुंचे लोगों ने भी बारी-बारी से शहीद के पार्थिव शरीर पर फूल अर्पित कर नमन किया.

पिता ने दी मुखाग्नि

शहीद कुंदन सिंह के पिता सुरेश सिंह (75 वर्ष) ने उनके पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी. कुंदन के तीन भाई और दो बहन हैं. बहनों की शादी पहले करने की सोच को लेकर कुंदन ने अबतक अपनी शादी नहीं की थी.

बता दें कि बूढ़ा पहाड़ पर मंगलवार को नक्सलियों ने लैंड माइंस ब्लास्ट किया था, जिसमें छह जवान शहीद हो गये थे, जबकि चार घायल हो गये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Posts

CNT उल्लंघन कर जमीन की खरीद-बिक्री में ब्रदर ऑफ संत गेब्रियल एजुकेशन सोसायटी ने 13 साल में कमाये 4.7 करोड़

तत्कालीन उपायुक्त, उप समाहर्ता और अंचलाधिकारी की भूमिका भी सवालों के घेरे में, आंख मुंदकर दे दी सौदे की परमिशन.

mi banner add

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: