पलामू: रास्ता दिखाने के बहाने महुआ चुन रहे किसान का अपहरण, 24 घंटे बाद भी सुराग नहीं

Publisher NEWSWING DatePublished Sun, 04/15/2018 - 16:28

Dilip Kumar

Daltonganj : पलामू जिला अंतर्गत पांकी के सुदूर इलाकों में इन दिनों अपराधियों की सक्रियता काफी बढ़ गयी है. अपराधियों को जहां कोई पैसे वाला नजर आता है, उसका अपहरण कर लिया जाता है. पारा शिक्षक और ग्रामीण का अपहरण किए जाने के बाद अपराधियों ने एक किसान का अपहरण किया है. हालांकि अभी तक किसी तरह की फिरौती नहीं मांगी गयी है, लेकिन 24 घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद भी किसान का कोई सुराग नहीं मिल पाया है. परिजनों द्वारा इसकी सूचना पुलिस को दी गयी है. हालांकि पुलिस इसे गुमशुदगी का मामला मानकर छानबीन कर रही है.

इसे भी पढ़ें - शादी से लौट रहे तीन दोस्तों की बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो की मौत, एक गंभीर

सुबह चार बजे महुआ चुनने गया था कृष्णा प्रजापति

पांकी थाना क्षेत्र के केरकी गांव से कृष्णा प्रजापति का अपहरण हो गया है. मिली जानकारी के अनुसार कृष्णा प्रजापति घर से कुछ दूरी पर शनिवार की तड़के 4 बजे महुआ चुनने का कार्य कर रहा था. इसी बीच चार-पांच की संख्या में आये अपराधियों ने उसका अपहरण कर लिया. अगल-बगल भी लोग महुआ चुनने का कार्य कर रहे थे, लेकिन अपराधी आराम से कृष्णा प्रजापति को लेकर चलते बने. बगल के पेड़ के नीचे महुआ चुन रहे इन्द्रदेव मांझी ने जब कृष्णा को ले जाते देखा तो वह वहां से भाग गया और इसकी सूचना उसके परिजनों को दी. परिजन पूरे जंगली क्षेत्र में कृष्णा का पता लगाया, लेकिन किसी तरह कोई जानकारी उन्हें नहीं मिली. थक हारकर रविवार को इसकी जानकारी पुलिस को दी. माड़न के मुखिया मो रफीम ने बताया कि घटना हुई. परिजनों के साथ पूरे गांव के लोग कृष्णा प्रजापति को ढूंढने में लगे हैं. वहीं अभी तक फिरौती की मांग नहीं की गयी है. अपराधी उन्हें किस लिए उठाकर ले गए हैं, पता नहीं चल पा रहा है. कृष्णा प्रजापति गरीब किसान थे. जंगल में इन दिनों महुआ चुनते थे और खानदानी पेशे से भी जुड़े थे.

इसे भी पढ़ें - गिरिडीह : धारदार हथियार से JMM पंचायत अध्यक्ष की दिनदहाड़े हत्या, भागते अपराधियों ने की हवाई फायरिंग

पिछले माह पारा शिक्षक का हुआ था अपहरण

बतातें चलें कि इसके पूर्व भी 24 मार्च को पारा शिक्षक रामदयाल उरांव का 8 बजे रात्रि में अपहरण कर लिया था. 27 मार्च को फिरौती देकर वह मुक्त हुए थे. हालांकि पुलिस ने दावा किया था कि कार्रवाई के दबाव में अपराधियों ने शिक्षक को मुक्त कर दिया था. 2 माह पूर्व भी सकलदीपा से साजिद अंसारी को अपराधी अगवा कर ले गये थे, लेकिन पूरे गांव के लोग खोजबीन करने लगे. अपराधी एक कुआं, जो लगभग नौ दस फीट गड्ढ़ा था और उसमें पानी नहीं था, उसी में उसे हाथ-पैर बांधकर लटका रखा थे. अपराधी उसे लेकर कहीं अन्यत्र ले जाने की तैयारी में थे. इसी बीच किसी ने देख लिया और शोर मचाने पर ग्रामीण पीछा करने लगे तो अपराधी उसे छोड़कर भागे निकले. चापी से भी एक युवक को अगवा करने का प्रयास किया गया था.

इसे भी पढ़ें - कंपनी कमांडर ने महिला होमगार्ड से कहा- तुम्हें रात में ड्यूटी करनी होगी, महिला ने लगाया शारीरिक शोषण का आरोप

माड़न, सकलदीपा में अपराधी सक्रिय

पांकी के सुदूर इलाके माड़न और सकलदीपा में पिछले कई महीने से अपराधी गिरोह काफी सक्रिय नजर आ रहे हैं. आर्थिक रूप से समृद्ध व्यक्ति नजर आते ही उसका अपहरण कर लिया जाता है. इस इलाके में रहने और डयूटी करने से शिक्षक सहित अन्य सरकारी व गैरसरकारी सेवाओं से जुड़े कर्मी कतराते हैं. पुलिस का इन इलाकों में नियंत्रण नहीं दिखता है. नक्सली संगठन जेजेएमपी के सदस्य भी इस इलाके में दिन के उजाले में आते-जाते नजर आते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

Special Category
City List of Jharkhand
loading...
Loading...