पलामू : मेडिकल कॉलेज निर्माण कंपनी ने मजदूरों को काम से निकाला, बकाया मजदूरी भी नहीं दी

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 01/16/2018 - 15:46

Palamu: पलामू जिले में मेडिकल कॉलेज का निर्माण करा रही कंपनी मनमानी पर उतर आयी है. मंगलवार को कई स्थानीय मजदूरों के साथ छल करते हुए कंपनी ने उन्हें काम से निकाल दिया. इन मजदूरों को उनकी बकाया मजदूरी भी नहीं दी गयी. काम से हटाये जाने पर बड़ी संख्या में आक्रोशित मजदूरों ने जिला परिषद सदस्य रानो देवी के आवास का घेराव किया और अपनी पीड़ा से उन्हें अवगत कराया.

इसे भी पढ़ेंः गढ़वा  : अधिकारियों का नया कारनामा, मृत पत्नी की जगह जीवीत पति का ही बना डाला मृत्यु प्रमाण पत्र    

मजदूरों को काम देने का आश्वासन देकर तुड़वाया गया था जिप सदस्य का अनशन

गौरतलब है कि 10 जनवरी को जिप सदस्य रानो देवी ने स्थानीय मजदूरों को मेडिकल कॉलेज निर्माण में काम देने सहित 13 सूत्री मांगों को लेकर मेडिकल कॉलेज निर्माण स्थल पर आमरण-अनशन शुरू किया था. इस दौरान कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर अमित भौमिक ने सभी मांगों को पूरा कराने का आश्वासन देते हुए अनशन तोड़वाया था, लेकिन यह सिर्फ खानापूर्ति साबित हुआ. मजदूरी के लिये आये मजदूरों को मंगलवार को मेडिकल कॉलेज परिसर में घुसने नहीं दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः 28 बड़े शहरों में रिंग रोड पर 36,290 करोड़ खर्च करेगा केंद्र, रांची रिंग रोड 14 सालों बाद भी अधूरी  

वार्ता के लिए बनी कमिटी

काम से बाहर निकाले जाने के बाद मजदूरों ने बैठक की और इस सिलसिले में कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर से वार्ता के लिए 15 सदस्यीय कमेटी बनायी. सर्वसम्मति से सुनील कुमार कुशवाहा को अध्यक्ष, रानो देवी को संरक्षक और समाजसेवी अजीत मेहता को सचिव चुना गया. मौके पर नवनियुक्त अध्यक्ष ने कहा कि मजदूरों को पूरा न्याय दिलाया जायेगा. उन्होंने कहा कि कंपनी की दोरंग नीति चलने नहीं दी जायेगी. एक तरफ कंपनी स्थानीय मजदूरों को प्राथमिकता देने की बात कहती है तो दूसरी ओर कोलकाता से मजदूर मंगा कर उनसे काम ले रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)