अब सरकार ने भी माना, 5 साल में ज्यादा बढ़ी बेरोजगारी, श्रम मंत्रालय का अनुमान-और ज्यादा बढ़ेगी बेरोजगारी

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 02/08/2018 - 17:34

Newswing Desk : केंद्र सरकार ने अब मान लिया है कि देश में पिछले पांच सालों में देश में ज्यादा बेरोजगारी बढ़ी है. श्रम मंत्रालय के लेबर ब्यूरो की वार्षिक रिपोर्ट से भी यह साबित हो गया है. वार्षिक रोजगार-बेरोजगार सर्वे में 1 लाख 56 563 घरों का सर्वे किया गया है. सर्वे में यह निष्कर्ष आया है कि देश में बेरोजगारी का दर पांच प्रतिशत पर पहुंच गई है. और आने वाले दिनों में स्थिति और खराब होने का अनुमान है. उल्लेखनीय है कि वर्ष 2014 में सत्ता में आने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी रैलियों में यह वायदा किया था कि अगर केंद्र में उनकी सरकार बनी, तो वह हर साल एक करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे.

रिपोर्ट के मुताबिक सर्वे में 15 साल की उम्र से बड़े युवाओं को शामिल किया गया था. सर्वे के मुताबिक वर्ष 2011-12 में बेरोजगारी का दर 3.8  प्रतिशत था, जो वर्ष 2015-16 में बढ़ कर पांच प्रतिशत हो गयी.  सर्वे का निष्कर्ष यह है कि केंद्र में यूपीए की जगह भाजपा की सरकार आने के बाद बेरोजगारी स्थिति सुधरने के बजाय और खराब हुई.  

2019 तक बेरोजगारों की संख्या 1.89 करोड़ होगी

इस बीच संयुक्त राष्ट्र की संस्था अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ने हाल ही में जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि वर्ष 2019 तक  भारत में बेरोजगारों की संख्या 1.89 करोड़ हो जायेगी. रिपोर्ट के अनुसार तब भारत में कुल कर्मचारियों की संख्या 53.5 करोड़ होगी, लेकिन उनमें से 39.8 करोड़ लोगों को उनकी योग्यता के अनुसार नौकरी नहीं मिलेगा.