मुंगेर प्रमंडल में चल रहे विकास कार्यों की नीतीश ने की समीक्षा, ‘स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड’ योजना पर विशेष रुप से हुई चर्चा

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/10/2018 - 11:03

Patna : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, जमुई, शेखपुरा एवं खगड़िया जिले के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक की. नीतीश की अध्यक्षता में मुंगेर संग्रहालय स्थित सभाकक्ष में प्रमंडलीय समीक्षात्मक बैठक के दौरान सात निश्चय एवं अन्य विकासात्मक योजनाओं के तहत मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, जमुई, शेखपुरा एवं खगड़िया जिलों में चल रहे कार्यों की समीक्षा की गयी. बैठक में मुख्य रुप से अब तक की उपलब्धियों और विकास कार्यों को पूरा करने में आ रही समसयाओं पर चर्चा हुई. बैठक में सात निश्चय योजनान्तर्गत चल रहे युवाओं के लिए कार्यक्रम ‘स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड’ योजना पर विशेष रुप से चर्चा की गयी.

इन मुद्दों पर हुई चर्चा

बैठक के दौरान प्रत्येक प्रखंड में कौशल विकास केंद्र की स्थिति क्या है, स्वयं सहायता भत्ता पाने वाले युवाओं में रोजगार प्राप्ति की स्थिति और केंद्र पर लड़कियों की उपस्थिति पर चर्चा हुई. इसके अलावे हर घर बिजली का कनेक्शन, हर घर तक पक्की गली-नाली, हर घर नल का जल, शौचालय निर्माण की बिंदुवार समीक्षा की गई तथा संबंधित विभाग के प्रधान सचिव, सचिव और जिलों के जिलाधिकारियों ने स्थितियों से विकास योजनाओं के संबंध में प्राप्त उपलब्धियों एवं लक्ष्य को मुख्यमंत्री के समक्ष रखा.

इसे भी पढ़ें- 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने और सेना व पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर एजेंट व अफसरों ने वसूले रुपयेः एनएचआरसी

लोकसेवा का अधिकार कानून की जिलाधिकारी करें निगरानी

बैठक के दौरान सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी ने लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम एवं लोकसेवा का अधिकार कानून के तहत प्राप्त आवेदनों के निष्पादन की पूरी वस्तुस्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत कराया. मुख्यमंत्री ने लोकसेवा का अधिकार कानून के तहत आचरण प्रमाण-पत्र, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र को समयसीमा के अंदर प्रदान कराने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी सूक्ष्मस्तर पर इसकी निगरानी करें. लोकसेवा का अधिकार कानून के तहत अपीलों की क्या स्थिति है, किन चीजों में अपील ज्यादा हो रही है, इस पर भी ध्यान देने की जरुरत है.

पहाड़ से निकल रहे पानी का तापमान कम करना है : नीतीश

बैठक में धान अधिप्राप्ति के संबंध में चर्चा की गई. यह जानकारी दी गयी कि अभी तक पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 5 गुणा अधिक खरीद हुई है. भीम बांध पर चर्चा के क्रम में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि भीम बांध में जो गर्म पानी पहाड़ से आता है, उसको संग्रह एवं चैनेलाइज करना है. पुराने पौंड के स्ट्रक्चर को रिमाडलिंग किया जाना है. उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि स्थल पर जाकर योजना का कार्यान्वयन जल्द शुरू करें. मुख्यमंत्री ने कहा कि पहाड़ से निकल रहे पानी का तापमान कम करके नहाने लायक बनाना है. उन्होंने कहा कि निकल रहे पानी का उपयोग सिंचाई के लिये भी किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- 17 साल के झारखंड में पहली बार राजनीतिक नहीं बल्कि प्रशासनिक अस्थिरता

कई क्षेत्रों से जुड़ी समस्याएं और शिकायतें  सीएम के समक्ष रखी गयीं

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री के समक्ष स्थानीय विधायकों, विधान पार्षदों, मुंगेर नगर निगम की मेयर, मुंगेर जिला परिषद अध्यक्ष द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य, भूमि संबंधी, सड़क निर्माण, पुल-पुलियों के निर्माण, सिंचाई, कृषि जैसी अन्य कई क्षेत्रों से जुड़ी समस्याएं और शिकायतें रखी गयीं. समस्याओं के समाधान के लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया.

कौन-कौन रहे मौजूद

समीक्षा बैठक में जल संसाधन तथा योजना एवं विकास मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार, पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत, श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा, समाज कल्याण मंत्री कुमारी मंजू वर्मा, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक पी0के0 ठाकुर, प्रधान सचिव गृह आमिर सुबहानी, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा तथा संबंधित विभागों के प्रधान सचिव एवं सचिव, मुंगेर प्रमंडल के आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस उपमहानिरीक्षक, मुंगेर प्रमण्डल के सभी जिलों के जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...