राज्य में 478 प्लस-टू स्कूलों की जरूरत, अब तक बने सिर्फ 280

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 03/09/2018 - 19:24

Ranchi : राज्य सरकार ने प्रत्येक सात किलोमीटर पर एक प्लस टू स्कूल खालने की योजना तैयार की है. स्कूल दो चरणों में खोले जाने हैं. राज्य में 478 प्लस टू स्कूलों की जरूरत है. अब तक सिर्फ 280 बने हैं. पहले चरण का कार्य तो पूरा हो गया है पर दूसरे चरण की योजना अब तक तैयार नहीं हो सकी है. 2016-17 में राज्य में प्लस-टू स्कूलों की संख्या 230 थी. लेकिन इन प्लस-टू स्कूलों में पढ़ाने के लिए  पर्याप्त शिक्षकों का अभाव है, जिसे अब तक पूरा नहीं किया जा सका है. इन प्लस टू स्कूलों के लिए अब तक सिर्फ एक बार ही 2012 में 1233 शिक्षकों की नियुक्ति हुई है.

इसे भी पढ़ें -अवैध कमेटी की अनुशंसा पर डीजीपी ने एसपी आवास में महिला सिपाही का यौन शोषण करने वाले सार्जेंट व रीडर को किया निलंबन मुक्त !

इसे भी पढ़ें -रांची विवि असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्ति का विरोध, पहुंच और पैरवी के आधार पर हुआ चयन !

दो चरणों में पूरी की जानी थी योजना

राज्य में जरूरत के सभी 478 प्लस टू स्कूलों को पूरा करने के लिए दो चरण निर्धारित किये गये थे. पहले चरण में 54 वैसे प्रखंडों में स्कूल खोले जाने थे, जहां एक भी प्लस-टू स्कूल नहीं थे. उसके बाद दूसरे चरण के लिए तैयारी कर शेष बचे प्लस टू स्कूलों को पूरा करना था. नये प्लस टू स्कूल खोलने के साथ ही उवि को भी अपग्रेड किया जाना था.

इसे भी पढ़ें -सेंट्रल प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने टीटीपीएस को उत्पादन बंद करने को कहा, सिंचाई विभाग से कहा पानी ना दें, सीसीएल से कहा कोयला ना दें

प्लस टू स्कूलों में अभी भी है शिक्षकों का अभाव

राज्य में जितने भी प्लस टू स्कूल हैं, उस हिसाब से शिक्षकों की संख्या बहुत ही कम है. पहली बार शिक्षक नियुक्ति में 2012 में 1233 प्लस टू शिक्षकों की नियुक्ति की गयी थी. राज्य गठन के बाद बने प्लस टू स्कूलों में भौतिकी, इतिहास व रसायन विषय के शिक्षकों की कमी है. सभी स्कूलों में जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा के शिक्षकों के पद भी सृजित नहीं है.

प्लस टू स्कूल के शिक्षकों के लिए नहीं निकला है रिजल्ट

राज्य में प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए हुयी हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति परीक्षा का अब तक रिजल्ट जारी नहीं किया जा सका है. परीक्षा के रिजल्ट प्रकाशन में हो रही देरी की जो भी वजह हो, पर इस परीक्षा का विरोध पहले से ही किया जाने लगा है. इससे पहले 2013 में भी 512 पदों के लिए परीक्षा ली गयी थी, जिसे पूरा नहीं किया जा सका था.

इसे भी पढ़ें - BCCI के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना, सचिव अमिताभ चौधरी और कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी को हटाने की अनुशंसा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच

टीटीपीएस गाथा : शीर्ष अधिकारी टीटीपीएस को चढ़ा रहे हैं सूली पर, प्लांट की परवाह नहीं, सबको है बस रिटायरमेंट का इंतजार (2)

धोनी की पत्नी को आखिर किससे है खतरा, मांग डाला आर्म्स लाइसेंस

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी